बैंक में नौकरी करने वालों के लड़के या लड़कियों से शादी करने से बचें, दारुल उलूम देवबंद का फतवा

बैंक में नौकरी करने वालों के लड़के या लड़कियों से शादी करने से बचें, दारुल उलूम देवबंद का फतवादारुल उलूम देवबंद इस्लामिक स्कूल।

लखनऊ (भाषा)। देश के प्रमुख इस्लामी शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने अपने एक फतवे में बैंक की नौकरी से चलने वाले घरों से शादी का रिश्ता जोड़ने से परहेज करने को कहा है।

दारुल उलूम के फतवा विभाग दारल इफ्ता ने कल यह फतवा एक व्यक्ति द्वारा पूछे गए सवाल पर दिया है। उस शख्स ने पूछा था कि उसकी शादी के लिए कुछ ऐसे घरों से रिश्ते आए हैं, जहां लड़की के पिता बैंक में नौकरी करते हैं, चूंकि बैंकिंग तंत्र पूरी तरह से सूद (ब्याज) पर आधारित है, जो कि इस्लाम में हराम है, इस स्थिति में क्या ऐसे घर में शादी करना इस्लामी नजरिये से दुरस्त होगा?

ये भी पढ़ें- सहारनपुर: महिलाओं के आईब्रो बनवाने और बाल कटवाने के खिलाफ दारुल उलूम ने जारी किया फतवा

इस पर दिए गए फतवे में कहा गया, ऐसे परिवार में शादी से परहेज किया जाए। हराम दौलत से पले-बढ़े लोग आमतौर पर सहज प्रवृत्ति और नैतिक रूप से अच्छे नहीं होते। लिहाजा, ऐसे घरों में रिश्ते से परहेज करना चाहिए। बेहतर है कि किसी पवित्र परिवार में रिश्ता ढूंढा जाए। इस्लामी कानून या शरीयत में ब्याज वसूली के लिए रकम देना और लेना शुरू से ही हराम माना जाता रहा है। इसके अलावा इस्लामी सिद्धांतों के मुताबिक हराम समझे जाने वाले कारोबारों में निवेश को भी गलत माना जाता है।

ये भी पढ़ें- करीब 40 मौलवियों का गायिका नाहिद के खिलाफ फतवा, नाहिद अफरीन का मुंहतोड़ जवाब, ‘फतवा’ से नहीं डरती, ताउम्र गाती रहूंगी

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस्लाम के मुताबिक धन का अपना कोई स्वाभाविक मूल्य नहीं होता, इसलिये उसे लाभ के लिए रहन पर दिया या लिया नहीं जा सकता। इसका केवल शरीयत के हिसाब से ही इस्तेमाल किया जा सकता है। दुनिया के कुछ देशों में इस्लामी बैंक ब्याजमुक्त बैंकिंग के सिद्धांतों पर काम करते हैं।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top