Top

धान के पुआल को बिना जलाए धन कमा सकते हैं किसान

Ashwani NigamAshwani Nigam   10 Nov 2017 2:46 PM GMT

धान के पुआल को बिना जलाए धन कमा सकते हैं किसानप्रदूषण।

लखनऊ। दिल्ली समेत उत्तर भारत के कई राज्यों में स्मॉग के कारण आजकल तूफान मचा हुआ है। जहरीली गैसों के मिश्रण वाली धुंध से लोग परेशान हैं, इसके लिए पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के पुआल जलाने वाले किसानों को जिम्मेदार माना जा रहा है। विशेषज्ञ बता रहे हैं कि खरीफ फसल में धान की कटाई के बाद खेत में बचे हुए पुआल जिसे पराली भी कहते हैं उसको किसान बड़ी मात्रा में जला रहे हैं, जिसके धुंए और राख से स्मॉग फैल रहा है, लेकिन किसान धान के पुआल को जलाए बिना ही जहां पैसा कमा सकते हैं वहीं पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचा भी सकते हैं।

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान नई दिल्ली से सूक्ष्म जीव-विज्ञान संभाग की रिपोर्ट के अनुसार धान के पुआल को जलाने से एक बहुत बड़ी आर्थिक हानि होती है क्योंकि इसमें लगभग 51.76 प्रतिशत आर्गेनिक कार्बन, 0.65 प्रतिशत नाइट्रोजन, 0.20 प्रतिशत फस्फोरस और 0.30 प्रतिशत पोटाश होता है। इसे जलाने से पौषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। दूसरी तरफ इसको जलाने से बहुत ही जहरीली गैसें जैसे कार्बनडाइऑक्साइड, कार्बनमोनोऑक्साइड, नाइट्सऑक्साइड, मीथेन, बैंजीन और एरोसोल निकती है। ये गैसें हवा में मिलकर उसे प्रदूषित कर देती है और पूरा वातावरण दूषित हो जाता है। इन जहरीली गैसों के कारण जीवों में तरह-तरह की बीमारी जैसे त्वचा, आंखों की बीमारी, सांस-फेफड़े की बीमारियां और कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियां फैलती हैं।

ये भी पढ़ें - हरियाणा-पंजाब में जलाई गई पुआल से मेरठ में छाई धुंध

हालिया जारी एक रिपोर्ट के अनुसार अकेले पंजाब राज्य में हर वर्ष लगभग 197 लाख टन धान का पुआल जला दिया जाता है, जिसके कारण हर साल उत्तर भारत में नवंबर महीने में स्मॉग की खतरनाक समस्या पैदा हो रही है। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक सत्य प्रकाश त्यागी ने बताया, ''किसान धान की पुआल जलाने की जगह इस पुआल को मवेशियों के चारा, कंपोस्ट खाद बनाने और बिजलीघरों में ईधन के रूप में इस्तेमाल करके लाभ कमा सकते हैं।''

ये भी पढ़ें - खेती से कमाना है तो किसान भाइयों अपने खेतों की चिता जलाना बंद कीजिए...

पंजाब कृषि विश्वविद्यालय ने धान के पुआल को किसान कैसे अपने लिए उपयोगी बना सकते हैं इसको लेकर एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें बताया गया है कि पुआल को अगर किसान खेत में बिना जलाए छोड़ दें तो यह खेत को फायदा पहुंचाएगा। इस रिपोर्ट के अनुसार पुआल खेत की नमी को सूखने से रोकता है। यह कीड़े-मकोड़ों से भी खेत को बचाता है और पुआल खेत में सड़कर उर्वरक का काम करता है।

धान के पुआल में सिलिका 11-15 प्रतिशत, लिगनिन 12 प्रतिशत, सेलूलोज 40 प्रतिशत, हेमिसेलूलोज 20 प्रतिशत पाया जाता है। कृषि विभाग के अनुसार हर साल एक हेक्टेयर में हर साल लगभग 6-7 टन प्रति चावल और 4-5 टन प्रति हैक्टर गेहूं पैदा होने से लगभग 300 किलोग्राम नाइट्रोजन, 30 किलोग्राम फास्फोरस और 300 किलोग्राम पोटाश जमीन से कम हो जाता है। ऐसे में देश की हर साल बढ़ती जनसंख्या के लिए अधिक अनाज उत्पादन के लिए मृदा की उर्वराशक्ति को बनाए रखना व उत्पादन बढ़ाना सबसे बड़ी चुनौती है।

ये भी पढ़ें - जलाएं नहीं, किसानों के लिए बहुत काम का है धान का पुआल

इस चुनौती से निपटने के लिए फसल अवशेषों और दूसरे जैविक कचरे का कम्पोस्ट खाद बनाकर उसका उचित प्रबंधन करना होगा। इससे जहां मृदा को जरूरी पौषक तत्व उपलब्ध होंगे, मृदा की उर्वराशक्ति बनी रहेगी, पौषक तत्वों की हानि नही होगी और वातावरण शुद्ध रहेगा।

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान नई दिल्ली देश में कृषि की आधुनिक तकनीकियों के प्रचलन से देश के उत्तरी मैदानी भागों में भी धान की खेती करने का चलन काफी बढ गया है, जिसके परिणामस्वरुप धान के पुआल की मात्रा में काफी वृद्धि हुई है। देश में लगभग 3,000 मिलियन टन जैविक अपशिष्ट हर साल पैदा हो रहा है, इस समस्या से निपटने के लिए धान के पुआल से कंपोस्ट बनाने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान नई दिल्ली के वैज्ञानिकों ने गड्ढा विधि से किसानों को कंपोस्ट बनाने की सलाह दी है।

ये भी पढ़ें - फसल के अवशेषों को जलाने की जरूरत नहीं, ये मशीन करेगी आपका काम आसान

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.