उत्तर प्रदेश में निवेशकों का महाकुंभ शुरू, उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 का पीएम ने किया उद्घाटन

उत्तर प्रदेश में निवेशकों का महाकुंभ शुरू, उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 का पीएम ने किया उद्घाटनउत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 का आज उद्घाटन किया। आयोजन स्थल है लखनऊ का इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान। इस दो दिनी इंवेस्टर्स समिट-2018 में पांच हजार उद्योगपति शिरकत कर रहे हैं। यह समिट 21-22 फरवरी को दो दिनों तक चलेगी।

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश इन्वेसटर्स समिट में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में यूपी का विकास हो रहा है। उन्होंने कहाकि तीन साल के अंदर चार लाख रोजगार उपलब्ध करने की योजना है।

उत्तर प्रदेश का भरोसेमंद साझेदार बनेगा रिलायंस : मुकेश अंबानी

सबसे पहले देश के नामी गिरामी उद्योगपति व रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमेन मुकेश अंबानी ने यूपी इंवेस्टर्स समिट में कहाकि, यूपी के विकास के बिना भारत का विकास संभव नहीं है। उत्तर प्रदेश को आगे ले जाना प्रधानमंत्री जी के साथ ही हम सबकी जिम्मेदारी है। मुकेश अम्बानी ने कहा कि मैं घोषणा करता हूं कि अगले तीन वर्षों में हम प्रदेश में दस हजार करोड़ रुपए का निवेश करेंगे। अंबानी ने कहा, मैं चाहता हूं कि उत्तर प्रदेश का हर नौजवान स्मार्ट नौजवान बने इसलिए हमने जियो फोन शुरू किया जो भारत का खुद का स्मार्ट फोन है । यह केवल 1500 रुपए में उपलब्ध है और यह राशि भी तीन साल बाद रिफंडेबल (लौटाई जा सकने वाली) है ... वस्तुत: मुफ्त है ।''

उन्होंने यह ऐलान भी किया कि जियो उत्तर प्रदेश में अगले दो महीने में दो करोड़ फोन तरजीही आधार पर उपलब्ध कराएगा । अंबानी ने कहा कि गंगा नदी हम सबकी माता है और हम सबके लिए पवित्र है। 'नमामि गंगे' मिशन गति पकड़ रहा है। रिलायंस फाउण्डेशन इस मिशन की सफलता के लिए काम करेगा ।

अडाणी समूह 35 हजार करोड़ रुपए का करेगा निवेश

उत्तर प्रदेश निवेशक शिखर सम्मेलन 2018 के उद्घाटन के मौके पर अडाणी समूह के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक गौतम अडाणी ने उत्तर प्रदेश में अगले पांच साल के दौरान 35 हजार करोड़ रुपए का निवेश करने की घोषणा की। उन्होंने कहा, भारत की कुल आबादी का 17 फीसदी उत्तर प्रदेश में रहता है। भारत के विकास की कहानी उत्तर प्रदेश के विकास की कहानी से अलग नहीं की जा सकती। उन्होंने ऊर्जा, लॉजस्टिक्सि, फूड एवं एग्रीकल्चर कांप्लेक्स, नवीकरणीय ऊर्जा, सड़क एवं मेट्रो रेल जैसे क्षेत्रों में निवेश का आश्वासन दिया।

बिड़ला समूह 25 हजार करोड़ रुपए का निवेश करेगा

आदित्य बिड़ला समूह के चेयरमैन कुमारमंगलम बिड़ला ने आज कहा कि उनका समूह उत्तर प्रदेश में अगले पांच साल के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में 25 हजार करोड़ रुपए का निवेश करेगा। कुमारमंगलम बिड़ला ने कहा, अगले पांच साल में हम अलग अलग कारोबार में 25 हजार करोड़ रुपए का निवेश करेंगे। उन्होंने कहा कि बिड़ला समूह सीमेंट,
रसायन और वित्तीय सेवाओं के क्षेत्र में राज्य में सक्रियता से कार्य कर रहा है। समूह ने यहां 24 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया है और 40 हजार लोगों को रोजगार मुहैया कराया है।

बिड़ला ने कहा कि उनकी कंपनी दूरसंचार, रसायन और वित्तीय सेवाओं के क्षेत्र में निवेश बढ़ाएगी। उन्होंने बताया कि बिड़ला समूह कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश के 400 गांवों में कार्य कर रहा है।

बनारस में 2 हजार करोड़ रुपए निवेश करेगा महिंद्रा ग्रुप

महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में दो हजार करोड़ रुपए का निवेश करेंगे। उप्र इन्वेसटर्स समिट 2018 को सम्बोधित करते हुए आनंद महिंद्रा काफी भावुक हो गए।

मेरी जड़ें उत्तर प्रदेश में काफी गहरी हैं क्योंकि मेरी मां उत्तर प्रदेश से ही थीं। वह इलाहाबाद की थीं। बाद में उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत से शिक्षिका की नौकरी हासिल की। हम उनके योगदान को कभी नहीं भुला सकते।
आनंद महिंद्रा चेयरमैन महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप

महिंद्रा ने कहा कि ऐसा लग रहा है कि एक मुसाफिर को उसकी मंजिल मिल गई है और आखिरकार इधर-उधर भटकर वह अपने घर लौट आया है।

उन्होंने कहा, "उप्र के पास असीमित संसाधन हैं। लेकिन मैं एक बात योगी जी से कहना चाहता हूं कि उप्र की तुलना अन्य राज्यों से नहीं होनी चाहिए। वाकई में अगर उप्र की तुलना करनी है तो दुनिया के देशों के साथ करें।"

महिंद्रा ने कहा, "उत्तर प्रदेश की दूसरे राज्यों से नहीं देशों से तुलना करनी चाहिए। उप्र आत्मनिर्भर बनेगा तो देश अपने आप ही आत्मनिर्भर हो जाएगा। उप्र के पास इतने संसाधन हैं कि जितने यूरोप में भी नहीं है। यहां का बड़ा बाजार सबको आकर्षित करता है। हम बनारस में दो हजार करोड़ रुपए का निवेश करेंगे। इलेक्ट्रिक वेहिकल को लेकर महिंद्रा पहले ही उत्तर प्रदेश में काम कर रहा है। इसे और आगे बढ़ाया जाएगा।"

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

उद्योगपतियों के लिए संभावनाओं के नए द्वार खोलेगी इन्वेसटर्स समिट : योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्मयंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उप्र में पहली बार आयोजित हो रही इन्वेसटर्स समिट यहां निवेश के लिए इच्छुक उद्योगपतियोंके लिए संभावनाओं के नए द्वार खोलने का काम करेगी।

11 महीने में बनाई कई नीतियां :-

उन्होंने साफतौर पर कहा कि निवेशकों की चिंताओं को दूर करने के लिए प्रदेश सरकार ने पिछले 11 महीनों में काफी काम किया है। उप्र सरकार ने पिछले 11 महीने में कई नीतियां बनाई हैं जिससे उद्योगपतियों को निवेश लायक माहौल मिल सके। उन्होंने कहा कि अभी पिछले दिनों ही राज्य सरकार की तरफ से चार लाख 28 हजार करोड़ का बजट प्रस्तुत किया था।

उन्होंने कहा, "हमें यह बताते हुए प्रसन्नता हो रही है कि हमने जितने का बजट पेश किया था ठीक उतने ही यानी चार लाख 28 हजार करोड़ रुपए के एमओयू पर हस्ताक्षर हुए हैं।" योगी ने कहा कि इस समिट में 125 कंपनियों ने हिस्सा लिया है और अभी तक 1045 एमओयू साइन हुए हैं। सरकार निवेशकों से यह कहना चाहती है कि उप्र सरकार हर एमओयू के क्रियान्वयन के लिए काम करेगी।

उप्र निवेश प्रोत्साहन बोर्ड का गठन :-

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने उप्र में निवेश के लिए उप्र निवेश प्रोत्साहन बोर्ड का गठन किया है। इसका काफी लाभ मिला है। उप्र के 10 शहरों को स्मार्ट सिटी योजना में जगह मिली है। उप्र सरकार स्टार्ट अप को लेकर एक नई नीति बना चुकी है। इसमें आईआईटी कानपुर और बीएचयू को सहयोगी के तौर पर शामिल किया गया है। इससे उद्योगपतियों को काफी मदद मिलेगी।

अगले तीन वर्ष में 40 लाख युवाओं को रोजगार :-

उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि उप्र में अगले तीन वर्ष के भीतर 40 लाख युवाओं को रोजगार मुहैया कराया जा सके। हमारी सरकार वन डिस्ट्रक्ट वन प्रोडक्ट पर काम रही है। इसके तहत जिले के बेहतरीन उत्पादों की मार्केंटिंग की जा रही है। योगी ने कहा कि सरकार बनने के बाद पूर्वांचल एक्सप्रेस वे और बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे पर काफी तेजी से काम हो रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार सुबह 10 बजे अमौसी एयरपोर्ट पर पहुंचे। यहां राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा सहित दर्जन भर मंत्रियों ने उनका स्वागत किया। इसके बाद उनका काफिला इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के लिए रवाना हो गया।

उप्र इन्वेसटर्स समिट में हर उद्योगपति का सिर्फ तीन मिनट का संबोधन करने का मौका दिया जाएगा

इंवेस्टर्स समिट में कुल 30 सत्र होंगे, जिसे गृहमंत्री राजनाथ सिंह व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ कई केंद्रीय और राज्य सरकार के मंत्री संबोधित करेंगे। इस समिट में जापान, नीदरलैंड व मॉरीशस समेत सात देश कंट्री पार्टनर के रूप में हिस्सा ले रहे हैं। (देखिए लाइव वीडियो)

LIVE📽️: PM Narendra Modi at the Inauguration of #InvestorsSummit2018, in Lucknow #UPInvestorsSummit2018

Posted by Press Information Bureau - PIB, Government of India on Tuesday, February 20, 2018

ये भी पढ़ें- मशहूर अभिनेता कमल हासन के साथ बैठा दूसरा व्यक्ति काैन है, पहचाने जरा

उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 में देश के सभी नामी गिरामी उद्योगपति मुकेश अंबानी, गौतम अडानी, सुभाष चंद्रा, कुमार मंगलम बिड़ला, आनंद महेंद्रा, पंकज पटेल, शोभना कामिनेनी, रमेश शाह तथा एन. चंद्रशेखरन शामिल हैं, और अपनी नई योजनाओं के बारे में बताएंगे।

उत्तर प्रदेश सरकार के मुताबिक इस समिट के लिए 4000 लोगों को न्यौता भेजा था। जिसमें कई नामी हस्तियां शामिल हैं। सरकार का दावा है कि करीब 3 लाख करोड़ के निवेश की जमीन तैयार हो चुकी है।

कांग्रेस ने लगाए मोदी विरोधी पोस्टर

उत्तर प्रदेश इन्वेसटर्स समिट 2018 से ठीक पहले कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोलते हुए शहर में कई जगहों पर पोस्टर लगाए हैं जिनमें उनसे पहले के निवेश का हिसाब मांगा गया है। उप्र में कांग्रेस की युवा टीम की ओर से राजधानी में कई जगहों पर प्रधानमंत्री के विरोध में पोस्टर लगाए गए हैं। पोस्टर में लिखा है, "दर्जनों देश घूम आए, कितना आया व्यापार? कुछ तो हिसाब दो, कुछ तो जवाब दो चौकीदार।"

वहीं एक अन्य पोस्टर में ललित मोदी, विजय माल्या और नीरव मोदी के फरार होने की भी बात लिखी गई है। पोस्टर में लिखा है, "पहले ललित फिर माल्या, अब नीरव भी हुआ फरार, स्वागत है लखनऊ में देश बेचने वाले आपका चौकीदार।"

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत ने कहा कि युवा ईकाई की तरफ से अगर इस तरह का पोस्टर लगाया गया है तो इसमें कुछ गलत नही है। सरकार को यह बताना चाहिए कि लाखों करोड़ रुपए के एमओयू से युवाओं को कितना रोजगार मिलेगा।

ये भी पढ़ें- किसान मुक्ति सम्मेलन : एक बार पूरे देश के किसानों का कर्ज़ा माफ किया जाए 

ये भी पढ़ें- यूपी इंवेस्टर्स समिट के मौके पर पढ़ें, हरदोई ज़िले में रफ्तार पकड़ता हथकरघा उद्योग

उन्होंने कहा, "मेरी जानकारी के मुताबिक तो अभी तक उप्र में जो भी निवेश आए हैं उसमें से 80 फीसदी उद्योगों के पुनर्निर्माण के लिए आए हैं। इससे युवाओं को कितना रोजगार मिलेगा यह सोचने वाली बात है।" उन्होंने कहा कि सरकार एक तरफ तो कह रही है कि लाखों करोड़ एमओयू हो रहे हैं। सरकार को बताना चाहिए कि उन एमओयू में प्रदेश के युवाओं को कितना रोजगार मिलेगा।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 के लिए लखनऊ आने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल राम नाईक व गृहमंत्री राजनाथ सिंह
उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 के लिए लखनऊ आने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, गृहमंत्री राजनाथ
उत्तर प्रदेश इंवेस्टर्स समिट-2018 के लिए लखनऊ आने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल राम नाईक

Share it
Top