बारिश-बर्फबारी से किसानों और पर्यटकों के चेहरे खिले

बारिश-बर्फबारी से किसानों और पर्यटकों के चेहरे खिलेबर्फबारी के बाद नैनीताल का दृश्य

उत्तर प्रदेश सहित देश के कई मैदानी इलाकों में बारिश से किसानों और हिमाचल प्रदेश-उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी से पर्यटकों के चेहरे खिल उठे। उत्तर प्रदेश में फुरसतगंज 3.6 डिग्री तापमान के साथ राज्य का सबसे ठंडा स्थान रहा। मौसम विज्ञानियों ने कश्मीर घाटी में बर्फबारी या बारिश का अनुमान जताया है।

खेतों में इस वक्त गेहूं, आलू, मक्का, सरसों, चना, मसूर और आम व अमरूद के बागों के लिए यह बारिश रामबाण है। कृषि विशेषज्ञों के मुताबिक इस समय हल्की बारिश फसल के लिए अच्छी मानी जाती है।

कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के ऊपरी इलाकों में मौसम पहले से सर्द है। हालात ऐसे हैं कि यहां पानी पाइप के भीतर जम गया। मैदानी इलाकों में कोहरे से यातायात प्रभावित हुआ। आसमान में बादल छाए रहने से तापमान तेजी से गिरा।

नई दिल्ली में ठंड के बीच हाथ तापते कुछ मजदूर
नई दिल्ली में ठंड के बीच हाथ तापने के साथ मोबाइल चलाता एक मजदूर

राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली में हल्की बारिश और कोहरे के कारण मौसम ठंडा बना रहा। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि शहर का न्यूनतम तापमान 9.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम तापमान 17 डिग्री रहा। सफदरजंग वेधशाला ने शाम साढ़े पांच बजे तक 4.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की थी।

बर्फ गिराने के बाद शिमला एक खूबसूरत दृश्य

शिमला शहर में मौसम की पहली बर्फबारी

लंबे इंतजार के बाद, मंगलवार को हिमाचल प्रदेश की राजधानी में बर्फबारी हुई। यह जाड़े के मौजूदा मौसम की पहली बर्फबारी है। बर्फ से ढकी पहाड़ियों का नजारा देखने के लिए पर्यटकों का हुजूम उमड़ पड़ा है। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि शिमला और आसपास के इलाकों में बर्फबारी हो रही है और यह शिमला शहर में मौसम की पहली बर्फबारी है।

शिमला के पास के पर्यटन स्थल कुफरी और नरकंडा में भी बर्फबारी हुई है। बर्फबारी की खबर फैलते ही शिमला में पर्यटकों का तांता लग गया। चंडीगढ़ से अपने दोस्तों के साथ आईं आशिमा खन्ना ने कहा, "यह पहली बार है जब हम बर्फबारी देख रहे हैं। इंद्र देवता की मेहरबानी है।"

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि शिमला की पहाड़ियों पर बर्फ एक-दो दिन टिकेगी। सेब की पैदावार के इलाके जुब्बाल और खारापत्थर में भी बर्फबारी की सूचना है। सर्दियों में बारिश व बर्फबारी जनजातीय क्षेत्र में पैदा होने वाले सेब के लिए संजीवनी बूटी है। बारिश व बर्फबारी से ही जलस्त्रोत में पानी भरता है। जब जलस्तर बढ़ता है तो पौधों की जड़ों में भरपूर पानी मिलता है। जिससे सेब के आकर में बढ़ोतरी होती है। गेहूं के लिए भी बारिश बहुत लाभकारी है। सभी फसलों के लिए बारिश व बर्फबारी वरदान सिद्ध हुई है।

आजकल एक बार फिर से कांगड़ी के लौटे पुराने दिन

कश्मीर के करगिल में तापमान शून्य से 19.2 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा। लेह में पारा शून्य से 14 डिग्री सेल्सियस कम रहा। श्रीनगर में शून्य से 3.7 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

पंजाब और हरियाणा के कई इलाकों में हल्की बारिश हुई। पंजाब में अमृतसर, लुधियाना और पटियाला में तापमान क्रमश: 6.7 डिग्री, 6.4 डिग्री और 9.6 डिग्री दर्ज किया गया।

हरियाणा के अंबाला में न्यूनतम तापमान 10.2 डिग्री दर्ज किया गया। पश्चिमी विक्षोभ के कारण राजस्थान के कुछ इलाकों में हल्की बारिश हुई।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top