केंद्र के दबाव में मुख्यमंत्री योगी ताजमहल गए और झाडू लगाई : अखिलेश यादव

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   26 Oct 2017 3:39 PM GMT

केंद्र के दबाव में मुख्यमंत्री योगी ताजमहल गए और झाडू लगाई : अखिलेश यादवअध्यक्ष अखिलेश य

लखनऊ (भाषा)। ताजमहल को लेकर पनपे विवाद के बीच सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज कहा कि अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर बदनामी होने के बाद केंद्र सरकार के दबाव में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मजबूरन आज विरासत स्थल जाना पड़ा।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा के लोगों ने ताजमहल को शिव का मंदिर बता दिया। किसी ने उसे भारतीय संस्कृति पर धब्बा कहा। मगर देखिए समय कैसे बदलता है, जब अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर बदनामी हुई तो केंद्र सरकार के दबाव में मुख्यमंत्री योगी आज ताजमहल पहुंच गए।

सपा अध्यक्ष ने योगी द्वारा आज चलाए गए स्वच्छता अभियान पर तंज कसते हुए कहा, जो लोग ताजमहल को अपनी संस्कृति का हिस्सा और अपनी धरोहर नहीं मानते थे, भगवान राम ने क्या किया कि आज उन्हें उसी इमारत के पश्चिमी द्वार पर झाडू लगानी पड़ गई।

अखिलेश ने कहा, ताजमहल परिसर में कुछ लोगों ने भगवा पहनकर पूजा की। यह लोग देश से पर्यटन को खत्म करना चाहते हैं, मैं चुनौती देता हूं कि भाजपा और उसके लोग ताजमहल को दुनिया की धरोहर इमारतों की सूची से हटवाकर दिखाएं। पूर्व मुख्यमंत्री ने दावा किया कि उनकी सरकार ने ताजमहल के आसपास सबसे ज्यादा काम किया, जबकि मौजूदा भाजपा सरकार ने इस इमारत से जुड़ी तमाम परियोजनाओं को रोक दिया।

सपा अध्यक्ष ने दावा किया कि इस बार गुजरात की जनता ने विधानसभा चुनाव में भाजपा को खारिज करने का फैसला कर लिया है। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने कांग्रेस ने पांच सीटें मांगी हैं। अगर बात नहीं बनती है तो भी सपा वहां सभी सीटों पर कांग्रेस का समर्थन करेगी।

अखिलेश ने प्रदेश के आगामी स्थानीय निकाय चुनाव की तरफ इशारा करते हुए कहा कि प्रदेश में कूडे की बड़ी समस्या है और कूड़ा खत्म करने का चुनाव भी आ रहा है, हम जनता से कहेंगे कूड़े को सफाई में बदलने के लिये इन चुनाव में सपा को वोट दें।

उन्होंने कहा कि अगर सपा जनता को समझाने में कामयाब रही और मेट्रो रेल, जनेश्वर मिश्र पार्क, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे को लेकर वोट पडे तो ज्यादातर नगर निगमों में सपा के ही मेयर होंगे।

अखिलेश ने एक सवाल पर कहा कि उनकी पार्टी आगामी आठ नवम्बर को नोटबंदी का एक साल पूरा होने पर काला दिवस मनाएगी।

राजनीति से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस मौके पर बसपा, भाजपा तथा कांग्रेस के कई नेता अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ सपा में शामिल होंगे। इनमें बसपा से तीन बार विधान परिषद सदस्य रहे मनीष जायसवाल, वरिष्ठ नेता मधुसूदन शर्मा तथा रालोद की पूर्व विधायक मिथिलेश पाल प्रमुख हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top