‘मेड इन इंडिया’ ने ‘मेड इन चाइना’ को पछाड़ा 

‘मेड इन इंडिया’ ने ‘मेड इन चाइना’ को पछाड़ा मेक इन इंडिया।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना 'मेक इन इंडिया' पूरी दुनिया में अपनी जगह बनाने लगी है और अपार मेहनत के बाद मेक इन इंडिया रंग दिखाने लगी है। इतना हीं नहीं, भारत समेत कई देशों में चीन की 'मेड इन चाइना' के प्रोडक्ट भले ही कितनी भी पहुंच हो, लेकिन गुणवत्ता के मामले में 'मेड इन इंडिया' ने उसे पछाड़ दिया है। चीन के प्रोडक्ट भले ही सस्ते और दोयम दर्जे के उत्पादों से मार्केट में छाया रहता है, लेकिन जहां गुणवत्ता और बेहतर मैन्युफैक्चरिंग की बात की जाएगी तो चीन हमसे पीछे है।

25 सितंबर 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए 'मेक इन इंडिया' कार्यक्रम को बड़ी उपलब्धि हासिल हुई है जब इसने गुणवत्ता के मामले में चीन के 'मेड इन चाइना' को मात दे दी।

मेड इन कंट्री इंडेक्स (एमआईसीआई-2017) के द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक भारत को चीन से ज्यादा अंक मिले हैं। बता दें कि यूरोपीय संघ और दुनिया के 49 बड़े देशों को लेकर सोमवार को सर्वे ने एक सूची जारी की। उनमें क्वालिटी (गुणवत्ता) व क्रेडिबिलिटी (विश्वसनीयता) के आधार पर सभी देशों को रैंकिग दी गई। इस सूचकांक के मुताबिक भारत को 36 अंक प्राप्त हुए, वहीं चीन को सिर्फ 28 अंक ही मिले। इस इंडेक्स के अनुसार चीन हमसे 8 अंक पीछे रहा है। भारत को इस कुल 49 देशों में 42वां स्थान हासिल हुआ, जबकि चीन को सबसे अंतिम 49वां स्थान से संतुष्ट रहना पड़ा।

Share it
Top