भावांतर योजना किसानों के लिए सुरक्षा कवच : शिवराज

भावांतर योजना किसानों के लिए सुरक्षा कवच : शिवराजमुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

सागर (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को किसानों को फसल का उचित मूल्य दिलाने के लिए बनाई गई भावांतर भुगतान योजना का शुभारंभ करते हुए कहा, "यह योजना किसानों के लिए सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करेगी।"

सागर जिले की खुरई की नवीन कृषि उपज मंडी प्रांगण में आयोजित समारोह में चौहान ने कहा, "किसानों को उनकी मेहनत का पूरा लाभ दिलाया जाएगा। इस योजना में समर्थन मूल्य से कम दाम पर बिकने वाली फसलों के अंतर की राशि किसानों के बैंक खाते में दी जाएगी।"

ये भी पढ़ें- देश के कई हिस्सों में सूखे की आहट, औसत से कम हुई मानसूनी बारिश

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे प्रदेश की 257 मंडियों में आज से योजना का शुभारंभ हो रहा है। बुंदेलखंड के किसान मेहनत कर रहे हैं। प्रदेश कृषि के क्षेत्र में देश में नंबर एक है। प्रदेश के किसानों के लिए आज का दिन ऐतिहासिक एवं स्वर्णिम है। सरकार किसानों को कर्ज बिना ब्याज के दे रही है। इतना ही नहीं, अब एक लाख का कर्ज लेने पर 90 हजार रुपये ही वापस करने होते हैं। खेती को लाभ का धंधा बनाना है। खुरई के गेहूं की पूरे हिंदुस्तान में पहचान है।

ये भी पढ़ें- ‘महिलाएं ला सकती हैं देश में दूसरी हरित क्रांति’

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने 8 रुपये प्रति किलो की दर से प्याज खरीदी है। सरकार किसानों की मेहनत को बर्बाद नहीं होने देना चाहती है। समर्थन मूल्य के नीचे फसल नहीं बिकने देंगे। किसान सीधे मंडी में फसल बेचेगा और समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में डाल दी जाएगी।

ये भी पढ़ें- वो खेतों में दिन दिन भर पसीना बहाती हैं.. लेकिन किसानी का दर्ज़ा नहीं

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा, "बांदरी और खिमलासा में महाविद्यालय खोला जाएगा, खुरई में कृषि महाविद्यालय अगले सत्र में प्रारंभ कराया जाएगा। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने लगभग एक सौ करोड़ रुपये की लागत के विकास कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी किया।" गृह एवं परिवहन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओं का स्वागत किया। कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव, सांसद लक्ष्मीनारायण यादव सहित जिले के विधायक मौजूद थे।

ये भी पढ़ें- विश्व खाद्य दिवस विशेष : गेहूं के उत्पादन को घटा देगा जलवायु परिवर्तन

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top