Top

पंचायत ने कहा- गोहत्‍या के प्रायश्‍चित के लिए करो नाबालिग लड़की की शादी

पंचायत ने कहा- गोहत्‍या के प्रायश्‍चित के लिए करो नाबालिग लड़की की शादीप्रतीकात्‍मक तस्‍वीर।

एक आदमी के मोटर साइकल से टकराकर एक बछड़े की मौत हो गई। इस घटना के बाद गांव में पंचायत बैठी और उस आदमी के परिवार का समाज से बहिष्‍कार कर दिया गया। समाज की ओर से उसे इस अपराध से मुक्‍त होने के लिए कुछ उपाय सुझाए गए, जिसमें उसकी नाबालिग बेटी का कन्‍यादान करना भी शामिल था। समाज के बहिष्‍कार से आहत यह आदमी अपनी नाबालिग बेटी की शादी करने जा रहा था कि पुलिस ने आकर यह अपराध होने से रोक दिया।

यह कहानी ज्‍यादा पुरानी नहीं है। यह कहानी साल 2020 की है और मध्‍य प्रदेश के विदिशा जिले के कुलुआ गांव में घटित हुई है। पथरिया थाने के एसओ बीडी सिंह बताते हैं, ''हमें जानकारी हुई कि गांव में राम सिंह (बदला हुआ नाम) अपनी नाबालिग बेटी की शादी करा रहे हैं। हम तुरंत मौके पर पहुंचे। पहले तो उन्‍होंने यह मानने से इनकार कर दिया, लेकिन जब हमने आधार कार्ड देखा तो उस पर लड़की की उम्र 16 साल थी। बाद में लोगों को समझाया गया तो वो मान गए। क्‍योंकि समझाने पर सब मान गए ऐसे में कोई केस दर्ज नहीं किया गया है।''

यह मामला लोधी समाज से जुड़ा है। इस समाज में ऐसा चलन है कि अगर किसी से गोहत्‍या होती है तो उसे गंगा स्‍नान करके समाज के लोगों को भोज कराना होता है। राम सिंह ने गंगा स्‍नान भी किया था और लोगों को भोज भी कराया था, लेकिन समाज के लोग इससे भी नहीं माने। उन्‍होंने राम सिंह से गो हत्‍या के अपराध से मुक्‍त होने के लिए कन्‍या दान करने की बात कही थी।

इसी वजह से राम सिंह ने समाज के बहिष्‍कार को खत्‍म करने और गो हत्‍या के अपराध से मुक्‍ति के लिए अपनी नबालिग बेटी की शादी करने की ठानी। उसने पास के ही गांव में एक लड़का देखा और फिर शादी की तैयारियों में जुट गया था। इस बीच मामले की जानकारी पुलिस को हुई तो वो गांव पहुंची और लोगों को समझाकर बाल विवाह होने से रोक दिया।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.