शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन का बड़ा बयान - कुछ मदरसे आतंकी भी पैदा करते हैं

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन का बड़ा बयान - कुछ मदरसे आतंकी भी पैदा करते हैंउत्‍तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी ने कहा है कि मदरसों को भी सीबीएसई और आईसीएसई की मान्‍यता मिलनी चाहिए। इसके साथ ही बोर्ड ने मदरसों में गैर मुस्लिम छात्रों को भी शिक्षा दिए जाने की वकालत की है। रिजवी ने इस बाबत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ को पत्र लिखा है। इसके साथ ही उन्‍होंने अपने बयान में कहा कि कुछ मदरसे इंजीनियर, डॉक्‍टर नहीं बल्कि आतंकवादी पैदा करते हैं।

रिजवी ने न्‍यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा, "मदरसों को सीबीएसई, आईसीएसई बोर्ड में शामिल किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मदरसों में गैर मुस्लिम छात्रों को भी पढ़ने की इजाजत मिलनी चाहिए एवं धार्मिक शिक्षा वैकल्पिक होनी चाहिए। मैंने इस बाबत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी के सीएम योगी आदित्‍यना‍थ को इस बाबत पत्र लिखा है। यह हमारे देश को और भी मजबूत बना देगा'। उन्‍होंने आगे कहा, कितने मदरसों ने इंजीनियर, डॉक्टर, आईएएस अधिकारी बनाए हैं? हां, लेकिन कुछ मदरसों ने आतंकवादी जरूर पैदा किए हैं।

रिजवी ने अपनी इस चिट्ठी को लेकर कहा, “मैंने पीएम को लिखी चिट्ठी में साफ किया है कि हिंदुस्तान में चल रहे अधिकतर मदरसे गैर मान्यता प्राप्त हैं। ज्यादातर इनसे नुकसान ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों को हो रहा है। यहां पढ़ने वाले अधिकतर मुस्लिम बच्चे बेरोजगारी की ओर बढ़ रहे हैं। क्योंकि यहां की पढ़ाई का स्तर काफी गिरा हुआ है। टाट-पट्टी के स्तर पर यहां मदरसों को मान्यता दी जा रही है।”

इससे पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने मदरसों व इस्लामी शैक्षणिक संस्थानों को और बेहतर बनाने की कवायद के तहत इन संस्थानों में राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण (एनसीईआरटी) की किताबें पढ़ाने का निर्णय लिया था। उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा था कि मदरसों में एनसीईआरटी किताबों से पढ़ाई होगी। आधुनिक विषयों के साथ स्कूलों के संग बराबरी कर पाएंगे, आलिया स्तर पर गणित और साइंस अनिवार्य होगी।

ये भी पढ़ें:- मदरसा मामला: पिस्टल दिखाकर करता था यौन शोषण

आतंकवादी संगठन करते हैं फंडिंग

वसीम रिजवी ने पत्र में लिखा है कि ज्यादातर मदरसे जकात के पैसे से चल रहे हैं जो भारत, बांग्लादेश और पाकिस्तान जैसे देशों से आ रहे हैं। कुछ आतंकवादी संगठन भी अवैध रूप से चल रहे मदरसों को फंडिंग कर रहे हैं। मुस्लिम इलाकों में ज्यादातर मदरसे सऊदी अरब के भेजे धन से चल रहे हैं। इसकी जांच की जानी चाहिए।

रिजवी ने अपनी आत्मा आरएसएस को बेच दी है : ओवैसी

उधर, इस पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुए एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने रिजवी को सबसे बड़ा अवसरवादी करार दिया है। साथ ही ओवैसी ने रिजवी को जोकर बताया। ओवैसी ने कहा, 'रिजवी बहुत बड़े अवसरवादी हैं। उन्होंने अपनी आत्मा आरएसएस को बेच दी है। मैं रिजवी को चुनौती देता हूं कि वह एक भी ऐसा मदरसा बता दें, जहां इस तरह (जैसा रिजवी ने पत्र में जिक्र किया है) की पढ़ाई हो रही है। यदि उनके पास सबूत है तो उन्हें गृहमंत्री को इसे सौंपना चाहिए।'

ये भी पढ़ें:- मदरसा यौन शोषण मामला : ‘हाफिज जी हमसे पैर दबवाते थे, पेट पर लात मारते थे’

Share it
Top