महाराष्ट्र पुलिस को जल्द मिलेगी बीफ का पता लगाने वाली किट 

महाराष्ट्र पुलिस को जल्द मिलेगी बीफ का पता लगाने वाली किट फोटो : साभार इंटरनेट

मुंबई (भाषा)। महाराष्ट्र के फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला निदेशालय (एफएसएल) ने एक पोर्टेबल किट विकसित की है, जिससे पता लगाया जा सकता है कि मांस के किसी नमूने में बीफ है या नहीं। एफएसएल के निदेशक केवाई कुलकर्णी ने कहा कि 'काउ मीट डिटेक्शन एलिजा किट' आधे घंटे के भीतर नतीजे मुहैया करा सकता है। बीफ पर पाबंदी से जुड़े विवादों के बीच यह किट विकसित किया गया है।

संबंधित खबर : मद्रास में बीफ फेस्ट आयोजित करने वाले छात्र की जमकर पिटाई

महाराष्ट्र में भाजपा की अगुवाई वाली सरकार ने महाराष्ट्र पशु संरक्षण (संशोधन) कानून लागू किया है जिसमें गाय के साथ-साथ बैलों के वध पर भी पाबंदी है।

जांच में आठ हजार तक का आएगा खर्च

कुलकर्णी ने पीटीआई-भाषा को बताया, ' 'इस किट से अधिकारी मौके पर ही मांस के नमूनों की जांच कर सकेंगे।'' उन्होंने कहा, ''हम हैदराबाद स्थित वैज्ञानिक डॉ. भानुशाली के साथ पिछले कई महीने से किट पर काम करते रहे हैं। राज्य में सभी 45 मोबाइल एफएसएल वैन के पास जल्द ही यह किट होगी।''

ये भी पढ़ें : डीयू-जेएनयू पर मुखर हुए लोग बीफ फेस्ट पर खामोश क्यों : आदित्यनाथ

किट के बारे में उन्होंने बताया कि पुलिस को बीफ से जुड़े मामलों में आरोपियों को सजा दिलाने में मदद मिलेगी। यदि बीफ वाले मांस के नमूने किट में डाले जाएंगे तो यह पीला हो जाएगा और फिर उसे आगे की पुष्टि के लिए एफएसएल में भेजा जाएगा। हर पोर्टेबल किट पर करीब 8,000 रुपए का खर्च आ सकता है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top