मैक्सिको से आया मक्का, चीन से आया चावल, जानें कहां से आया कौन सा खाना

आपके मन में कभी न कभी ये जानने की इच्छा हुई होगी, आखिर हम जो खाते हैं वो गेहूं, चावल, मक्का आदि सबसे सबसे पहले कहां उगाए गए होंगे.. यहां पढि़ए ऐसी ही रोचक जानकारी

मैक्सिको से आया मक्का, चीन से आया चावल, जानें कहां से आया कौन सा खानाप्राचीन मिस्र के हुर्र के मंदिर में मिले सबूतों से ये बात साबित होती है कि 7000 वर्ष पहले यहां पर गेहूं उगाया जाता था

दुनिया में खाने के शौकीन लोगों की कोई कमी नहीं है। भारत एक ऐसा देश है यहां का खाना लोग दुनिया भर में पसंद करते हैं। इन जायको को लजीज बनाने के लिए बहुत से फल, सब्जी और अनाज का इस्तेमाल किया जाता है। हम यह तो जानते हैं कि रसोई में इस्तेमाल होने वाले फल, सब्जियां, अनाज खेतों में उगाई जाती हैं, लेकिन आप शायद यह भी जरूर सोचते होंगे कि असल में ये चीजें आई कहां से हैं या इनका जन्मस्थान कहां का है ...

चावल

चावल

चावल एक ऐसा आहार है जो भारत में ही नहीं बल्‍कि कई अन्‍य देशों में भी सबसे अहम आहार है। वैसे तो भारत की मुख्य फसलों में चावल की पैदावार होती है, लेकिन असल में चावल मूल रूप से चीन देश से आया है। दुनिया में कई तरह के चावल की खेती होती है।

गेहूं

गेहूं

गेहूं एशिया में सबसे ज्यादा खाया जाता है। भारत समेत चीन, रूस, अमरीका, फ्रांस गेहूं के उत्पादक देश हैं लेकिन आप शायद ये नहीं जानते कि गेहूं सबसे पहले पूर्वी इराक, सीरिया, जॉर्डन और तुर्की से आया है। यहां पर मिले सबूतों से ये बात साबित होती है कि 7000 साल पहले यहां पर गेहूं उगाया जाता था।

मक्का

मक्का

मक्का का इस्तेमाल पूरी दुनिया में किया जाता है लेकिन असल में मक्का मैक्सिको की पैदावार है। आपको ये जानकर आश्चर्य होगा की मक्के की पैदावार का सिर्फ 15 प्रतिशत मक्का ही इंसानों द्वारा खाया जाता है बाकी 85 प्रतिशत मक्का जानवरों को खिलाने के काम आता है।

ये भी पढ़ें:- डिजिटल एग्रीकल्चर : तकनीक से आसान हो रही किसानों की ज़िंदगी

आलू

आलू

आलू का जन्म भारत में नहीं हुआ है। इसके जन्म दक्षिण अमेरिका की एंडीज पर्वत श्रृंखला में स्थित टिटिकाका झील के पास हुआ था। 16वीं सदी में स्पेन के योद्धाओं ने जब पेरू पर कब्जा किया था तब वहां आलू खोजे गए थे और फिर धीरे-धीरे आलू यूरोप तक पहुंच गया। भारत में आलू को बढ़ावा देने का श्रेय वारेन हिस्टिंग्स को जाता है जो 1772 से 1785 तक भारत के गवर्नर जनरल रहे। 18वीं शताब्दी तक आलू का पूरी तरह से भारत में प्रचार-प्रसार हो चुका था। उस वक्त आलू की तीन किस्में थीं। पहली किस्म के आलू का नाम फुलवा था, जो मैदानी इलाकों में उगता था। वहीं, दूसरे का नाम गोला था, क्योंकि वो आकार में गोल होता था और तीसरे आलू का नाम साठा था, क्योंकि वो 60 दिन बाद उगता था।

गन्ना

गन्ना

गन्ना पूर्वी एशिया में कहीं से आया माना जाता है। इसकी मिठास के इस्तेमाल का इतिहास 2,500 वर्ष से भी पुराना है। इसे सबसे ज्यादा ब्राजील में उगाया जाता है। इससे मुख्य रूप से शकर (चीनी) बनाई जाती है।

ये भी पढ़ें:- गाय भैंस खरीदने से पहले इस तरह जांचिए वो दुधारु है कि नहीं...

कॉफी

कॉफी

इथियोपिया से शुरू होकर दुनिया भर की पसंदीदा ड्रिंक बन चुकी कॉफी ने लंबा सफर तय किया है। एक कप कॉफी में 140 लीटर पानी छिपा है। इसे वर्चुअल वाटर भी कहते हैं। कॉफी की पैदावार पर विश्व के करीब 2.5 करोड़ किसान निर्भर हैं।

चाय

चाय

चाय भी आज दुनिया भर में काफी पसंद की जाती है और इसे भी लोग नियमित रूप से पीते है। खास तौर पर भारत, केन्या और श्रीलंका जैसे देशों में इस की पैदावार और शौकीन भारी मात्रा में हैं लेकिन असल में मूल रूप से चाय चीन से आई है।

ये भी पढ़ें:- इन युवाओं ने खोजा मोती की खेती का बहुउद्देशीय तरीका, मुनाफ़ा कई गुना ज्यादा

केला

केला

केला पूरी दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय फलों में से एक है। यूं तो केले के सबसे बड़े निर्यातक लैटिन अमेरिका और कैरेबियाई देश है, लेकिन असल में केला दक्षिण पूर्व एशिया से आया है।

ये भी पढ़ें:- इजराइल के किसान रेगिस्तान में पालते हैं मछलियां और गर्मी में उगाते हैं आलू

Share it
Share it
Share it
Top