Top

मौसम विभाग की चेतावनी, अगले दो दिनों में इन राज्यों में हो सकती है तेज बारिश

मौसम विभाग ने इन इलाकों में आगामी 26 अगस्त तक भारी से भारी बारिश होने के पूर्वानुमान के आधार पर चेतावनी जारी की है।

Divendra SinghDivendra Singh   22 Aug 2018 1:26 PM GMT

मौसम विभाग की चेतावनी, अगले दो दिनों में इन राज्यों में हो सकती है तेज बारिश

नयी दिल्ली। अगले दो दिनों में दिल्ली, उत्तर प्रदेश और बिहार सहित 16 राज्यों में भारी बारिश हो सकती है, मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है।

विभाग द्वारा 26 अगस्त तक के लिए जारी बारिश संबंधी पूर्वानुमान के मुताबिक उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पश्चिमी मध्य प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के कुछ इलाकों में गुरुवार को तेज बारिश की आशंका व्यक्त की गयी है।

ये भी पढ़ेंं : केरल में बाढ़ की तबाही ने लीं 324 जानें, 100 बरसों में सबसे भयानक सैलाब

विभाग ने शुक्रवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल और सिक्किम के कुछ इलाकों में मूसलाधार बारिश की चेतावनी जारी की है। इस दिन उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पूर्वी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, असम और मेघालय के कुछ इलाकों में तेज बारिश की चेतावनी जारी की गयी है।

मौसम विभाग ने इन इलाकों में आगामी 26 अगस्त तक भारी से भारी बारिश होने के पूर्वानुमान के आधार पर चेतावनी जारी की है।

बारिश और बाढ़ से केरल और असम में सबसे ज्यादा नुकसान

बारिश के चलते देश में सबसे ज्यादा तबाही केरल और असम में हुई है। केरल के आधे से ज्यादा हिस्से में भीषण बाढ़ के कारण बांध, जलाशय और नदियां लबालब भरी हुई हैं। कई जगहों पर राजमार्ग ध्वस्त हो चुके हैं। हजारों घर पानी में बह गए हैं। यहां करीब 54,000 लोग बेघर हो गये हैं। कम से कम 30 लोगों की मौत हुई है।

वहीं पूरे देश की बात की जाए तो गृह मंत्रालय के जारी आंकड़ों के अनुसार पूरे देश में 718 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया केंद्र (एनईआरसी) के अनुसार उत्तर प्रदेश में 171, पश्चिम बंगाल में 170, केरल में 178 और महाराष्ट्र में अब तक 139 लोगों की मौत हुई है। असम में 11.45 लाख लोग बारिश और बाढ़ की वजह से प्रभावित हुए हैं। वहीं, 27,552 हेक्टेयर खेतों में लगी फसलों पर भी इसका असर पड़ा है।

ये भी पढ़ें : मानसून आख़िर क्या है, जिसका किसान और सरकार सब इंतज़ार करते हैं

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.