मौसम विभाग की चेतावनी, छह राज्यों में मूसलाधार बारिश की आशंका

मध्य प्रदेश के दक्षिण पश्चिमी इलाकों और सीमावर्ती गुजरात एवं उत्तरी मध्य महाराष्ट्र के ऊपर हवा के कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण इन राज्यों में भारी बारिश की आशंका व्यक्त की गयी है

मौसम विभाग की चेतावनी, छह राज्यों में मूसलाधार बारिश की आशंकासाभार इंटरनेट

नई दिल्ली। मौसम विभाग ने मध्य प्रदेश और गोवा सहित छह राज्यों के कुछ इलाकों में अगले 24 घंटों के दौरान मूसलाधार बारिश की चेतावनी जारी की है। विभाग की ओर से आज प्राप्त जानकारी के अनुसार मध्य प्रदेश के दक्षिण पश्चिमी इलाकों और सीमावर्ती गुजरात एवं उत्तरी मध्य महाराष्ट्र के ऊपर हवा के कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण इन राज्यों में भारी बारिश की आशंका व्यक्त की गयी है।

ये भी पढ़ें- केरल में बाढ़ की तबाही ने लीं 324 जानें, 100 बरसों में सबसे भयानक सैलाब

इसकी वजह से उत्तरी कोंकण, मध्य महाराष्ट्र, गोवा, गुजरात के कच्छ एवं सौराष्ट्र क्षेत्र, तेलंगाना तथा उत्तरी कर्नाटक के भीतरी इलाकों में मूसलाधार बारिश की चेतावनी जारी की गयी है। इसके अलावा राजस्थान के दक्षिण पूर्वी इलाकों और मध्य प्रदेश के दक्षिण पश्चिम इलाकों में अधिकांश स्थानों पर अगले 24 घंटों तक जोरदार बारिश की संभावना को देखते हुये भारी बारिश जनित सभी संभावित स्थितियों से निपटने की चेतावनी दी गयी है।


मानसून आख़िर क्या है, जिसका किसान और सरकार सब इंतज़ार करते हैं

वहीं भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने पूर्वानुमान जताया कि अगस्त-सितंबर महीने में मानसून सामान्य रहेगा। दक्षिण पश्चिम मानसून मौसम के दूसरे छमाही के दौरान बारिश को लेकर अपने दूसरे लांग रेंज पूर्वानुमान को जारी करते हुए आईएमडी ने कहा कि जुलाई अंत तक का पूर्वानुमान बताता है कि बिहार, झारखंड और पूर्वोत्तर के राज्यों को छोड़कर देश के बाकी हिस्सों में बारिश अच्छी रही। इसके अनुसार अगले दो महीने में वर्षा के अनुकूल रहने की उम्मीद है जिससे खरीफ के मौसम के दौरान खेती के लिये उम्मीदें बढ़ गयी हैं। मौसम विभाग के अनुसार, " अगस्त 2018 के दौरान बारिश के एलपीए के 96 फीसदी (प्लस-माइनस नौ) से कम होने की संभावना है और जून में की गई भविष्यवाणी की तुलना में इसके अधिक होने की संभावना है। मात्रात्मक रूप से, मौसम की दूसरी छमाही के दौरान देश में बारिश के एलपीए के 95 फीसदी तक रहने की संभावना है।"

तो फिर वर्षा का पूर्वानुमान किसान के किस काम का

सूखे से निपटने के लिए बुंदेलखंड और विंध्य क्षेत्रों में कराई जाएगी कृत्रिम वर्षा


Share it
Top