8000 करोड़ रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग केस में ईडी के सामने पेश हुए लालू के दामाद

8000 करोड़ रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग केस में ईडी के सामने पेश हुए लालू के दामादशैलेश कुमार से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दफ्तर जाते हुए

नई दिल्ली। आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के दामाद शैलेश कुमार से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारियों ने करीब 8,000 करोड़ रुपये के कथित मनी लॉन्ड्रिंग केस के सिलसिले में पूछताछ की। इससे पहले ईडी ने लालू यादव के बेटी और शैलेश की पत्नी मीसा भारती से भी मंगलवार को पूछताछ की थी।

ईडी अधिकारियों ने करीब 8 घंटे तक मीसा से पूछताछ की और धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत भी उनका बयान दर्ज किया गया। मीसा के पति शैलेश को भी मंगलवार को तलब किया गया था, लेकिन वह बुधवार को पेश हुए।

वहीं सूत्रों ने बताया कि शैलेश से मेसर्स मिशैल प्रिंटर्स एंड पैकर्स प्राईवेट लिमिटेड नाम की एक कंपनी और दूसरे वित्तीय मामले में उनकी भूमिका और ईडी की गिरफ्त में आए एक सीए से उनके संबंधों के बारे में पूछताछ की जाएगी।

ईडी ने इस मामले में 8 जुलाई को मीसा और उनके पति शैलेश कुमार के दिल्ली स्थित तीन फॉर्म हाउसों और कंपनी की तलाशी ली थी। भ्रष्टाचार के एक मामले की जांच के तहत सीबीआई ने आरजेडी प्रमुख लालू और उनके परिवार के कई ठिकानों पर छापेमारी की थी, जिसके एक दिन के बाद ईडी ने 8 जुलाई को छापा मारा था।

दिल्ली स्थित दो व्यापारी बंधु सुरेंद्र कुमार जैन और विरेंद्र जैन और अन्य लोगों के खिलाफ 8,000 करोड़ रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में एजेंसी द्वारा की जा रही जांच में मीसा और उनके पति को ताजा समन जारी किया गया।

जैन बंधुओं सहित अन्य लोगों पर 90 से अधिक फर्जी कंपनियों के जरिये कई करोड़ रुपये का धन शोधन करने का आरोप है। ईडी पीएमएलए के तहत जैन बंधुओं को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। गिरफ्तार किए गए ये दोनों लोग इन कंपनियों में एक, मिशैल प्रिंटर्स एंड पैकर्स प्राईवेट लिमिटेड से जुड़े रहे हैं। मीसा और उनके पति इस कंपनी के कथित तौर पर निदेशक रहे हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें

Share it
Top