Top

बजट से पहले किसानों के लिए बड़ा फैसला, धान सहित इन फसलों की MSP बढ़ी, देखिए पूरी लिस्ट

modi government increases msp in cabinet meeting ahead of union budget Know which crops have increased MSP

लखनऊ। मोदी सरकार ने बजट से पहले ही किसानों को तोहफा दे दिया है। बुधवार को हुई कैबिनेट की बैठक में खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) में बढ़ोतरी की गई है। सोयाबीन, तूर, उड़द दाल सहित सूरजमुखी की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है।

बुधवार को कैबिनेट की बैठक के बाद प्रेस वार्ता में कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि सोयाबीन की कीमतों में 311 रुपए प्रति कुंतल, सूरजमुखी की कीमतों में 262 रुपए कुंतल और तुअर दाल में 125 रुपए प्रति कुंतत बढ़ोतरी की गई है। उड़द दाल के एमएसपी में 100 रुपए प्रति कुंतल जबकि तिल में 236 रुपए प्रति कुंतल की बढ़ोतरी की गई है।

देश में इस समय धान की बुआई तेजी से चल रही है। ऐसे में सरकार ने धान किसानों को राहत देते हुए धान की एमएसपी में 65 रुपए प्रति कुंतल की वृद्धि की है। धान अब बढ़ी हुई कीमत के साथ 1835 रुपए में बिकेगा। इसके अतिरिक्त मोदी सरकार ने वेज कोड बिल को भी पास कर दिया है।

इन फसलों की एमएसपी में बढ़ोतरी के बाद कीमत

धान- 1815 (3.7% वृद्ध‍ि)

धान ग्रेड ए- 1835 (3.7% वृद्ध‍ि)

ज्‍वार हाई ब्रिड- 2550 (4.9% वृद्ध‍ि)

ज्‍वार मालदानी- 2570 (4.9% वृद्ध‍ि)

बाजरा- 2000 कुंटल (2.6% वृद्ध‍ि)

रागी- 3150 (8.7% वृद्ध‍ि)

मक्‍का- 1760 (3.5% वृद्ध‍ि)

तूर अरहर- 5800 (2.2% वृद्ध‍ि)

मूंग- 7050

उड़द- 5700

मुंगफली- 5090 (4.1% वृद्ध‍ि)

सूरजमुखी बीज- 5650 (4.9% वृद्ध‍ि)

सोयाबीन पीला- 3710 (9.1% वृद्ध‍ि)

तिल- 6485 (3.8% वृद्ध‍ि)

राम तिल- 5940 (1.1% वृद्ध‍ि)

कपास मध्‍यम रेशा- 5255 (2.0% वृद्ध‍ि)

कपास लंबा रेशा- 5550 (1.8% वृद्ध‍ि)



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति की बैठक में यह निर्णय किया गया। न्यूनतम समर्थन मूल्य वह कीमत है जो केंद्र किसानों को उनकी उपज का भुगतान करने की गारंटी देता है।मध्यम कपास का एमएसपी 105 रुपए कुंतल तथा लंबे कपास का एमएसपी 100 रुपए कुंतल बढ़ाया गया है। इस बीच, सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मंत्रिमंडल ने मजदूरी संहिता को मंजूरी दे दी है। हालांकि संसद सत्र चालू होने के कारण उन्होंने इसके बारे में और ब्योरा नहीं दिया।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.