मोदी अपने तीन साल के कामकाज का हिसाब-किताब दें : कांग्रेस  

मोदी अपने तीन साल के कामकाज का हिसाब-किताब दें : कांग्रेस  कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ।

नई दिल्ली (भाषा)। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर झूठे वायदे और खोखले दावे करने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि की मोदी जब कल लालकिले से देश को संबोधित करते हुए उन्हें अपने तीन साल के कामकाज का हिसाब-किताब देना चाहिए।

कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ने यहां संवाददातओं से कहा, ' 'कल भारत की आजादी के 70 साल पूरे होंगे और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश को संबोधित करेंगे। हम प्रधानमंत्री से अनुरोध करेंगे कि तीन साल पहले 2014 में पहली बार प्रधानमंत्री बनने पर उन्होंने लालकिले से देश को जो संबोधन किया था। उस समय उन्होंने कुछ वादे किये थे।

शर्मा ने कहा, ' ' मोदी को झूठे वायदों और खोखले दावों तथा अपने तीन साल का हिसाब किताब देश के लोगों को देना चाहिए। उन्हें बताना चाहिए कि तीन साल में उन्होंने कितने वादे देश की जनता से किये और उनमें से कितने पूरे किये गये। उन्हें सैनिकों के बारे में, गोरखपुर की घटना के बारे में भी बोलना चाहिए। हमें उम्मीद है कि मोदी पहली बार ईमानदारी से इस बात पर आत्मनिरीक्षण करेंगे। वह लोगों की आकांक्षाओं एवं चिंताओं को संबोधित करेंगे। ' '

ये भी पढ़ें: गोरखपुर के हालात पर प्रधानमंत्री मोदी की नजर : पीएमओ

कांग्रेस नेता ने कहा, ' 'प्रधानमंत्री को यह भी बताना चाहिए कि कितनी नौकरी के वादे किये गये और वास्तव में कितने लोगों को रोजगार दिया गया। रोजगार नहीं मिला तो इसके लिए दोषियों के खिलाफ क्या कार्वाई की गयी है। यह पीड़ादायक तथ्य है कि भारतीय अर्थव्यवस्था में गिरावट आ रही है। पिछले ढाई साल से अर्थव्यवस्था में गिरावट आ रही है। हम सरकार से लगातार अनुरोध कर रहे हैं कि स्थितियों में सुधार किया जाए। किन्तु सरकार ने कुछ भी नहीं किया। नये सर्वेक्षण में उन बातों की पुष्टि की गयी है जो हम कहते आ रहे हैं। निवेश बहुत कम हो रहा है। यह पिछले 65 साल में सबसे कम है। कोई नया पूंजी निर्माण नहीं हो रहा है। ' '

उन्होंने कहा, ' 'हम भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के उस बयान की निंदा करते हैं जिसमें उन्होंने महात्मा गांधी के नेतृत्व में हुए स्वतंत्रता संग्राम का अपमान किया है। इस बयान से सत्ता का अहंकार झलकता है, हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि भाजपा का आजादी के निर्णायक आंदोलन में कोई योगदान नहीं था। ' '

ये भी पढ़ें: वेंकैया नायडू देश के पहले उपराष्ट्रपति, जिनका जन्म स्वतंत्र भारत में हुआ : मोदी

Share it
Top