देशभर में बंद किये गए करीब 11.44 लाख से ज्यादा पैन कार्ड

देशभर में बंद किये गए करीब 11.44 लाख से ज्यादा पैन कार्डएक व्यक्ति के पास एक ही पैन नंबर होना अनिवार्य

नई दिल्ली। सरकार ने 11.44 लाख से अधिक पैन कार्ड (परमानेंट अकाउंट नंबर) या तो बंद कर दिए हैं या ये निष्क्रिय कर दिए गए हैं। यह कार्रवाई एक से अधिक पैन कार्ड वालों पर की गई है। वित्त राज्‍य मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने संसद में जानकारी दी।

मंत्री ने कहा, "27 जुलाई तक 11,44,211 ऐसे पैन की पहचान की गई है, जिसमें एक ही व्यक्ति को एक से अधिक पैन जारी कर दिए गए हैं, अब इन पैन नंबरों को बंद कर दिया गया है।

एक व्यक्ति के पास एक ही पैन नंबर होना अनिवार्य

गंगवार ने कहा कि पैन का नियम है कि एक व्यक्ति के पास एक ही पैन नंबर होना चाहिए। 27 जुलाई तक 1,566 फर्जी पैन की पहचान की गई है, जो कि गलत पहचान वाले व्यक्तियों के नाम पर आवंटित हैं या उस नाम के लोग हैं ही नहीं।

ये भी पढ़ें:- इस तारीख तक आधार से लिंक करा लें पैन कार्ड वर्ना हो जाएगा रद्द, ऐसे करें लिंक

अगस्त तक आधार को पैन से लिंक नहीं किया तो हो जाएगा रद्द

पैन को हटाने या रद्द करने की सुविधा सॉफ्टवेयर के माध्यम से अस्सेस्सिंग ऑफिसर करता है। सरकार ने करदाताओं को 31 अगस्त तक आधार को पैन से जोड़ने के लिए कहा है। ऐसा नहीं होने पर पैन कार्ड को रद्द कर दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें:- एक हिंदू, दूसरी मुस्लिम, न कोई पहचान, फिर भी एक-दूसरे के पति को कर रहीं किडनी दान

टैक्स चोरी के लिए करते हैं एक से ज्यादा पैन कार्ड का इस्तेमाल कर

एक शख्स को सिर्फ एक पैन कार्ड रखने की ही इजाजत है। लोग एक से अधिक पैन कार्ड का इस्तेमाल टैक्स चोरी करने की कोशिश में करते हैं। साल 2004 से 2007 में भी आयकर विभाग ने डुप्लीकेट पैन कार्डों को खत्म करने के लिए एक अभियान चलाया था। इसके अलावा गंगवार से नोटबंदी के बाद काले धन की बरामदकी को लेकर भी सवाल पूछे गए। सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि आयकर विभाग के अधिकारियों ने नवंबर 2016 से मार्च 2017 के बीच देशभर में सर्च ऑपरेशन्स कर 900 करोड़ रुपये जब्त किए। उन्होंने कहा, “इस साल जून महीने के अंत तक ही 103 करोड़ रुपये बरामद किए गए।”

ये भी पढ़ें:- संसद में पूछा गया, सफाई कर्मचारियों की सैलरी किसान की आमदनी से ज्यादा क्यों, सरकार ने दिया ये जवाब

6,745 करोड़ रुपए की ब्लैक मनी का खुलासा

एक अभियान के तहत 8,239 सर्वेक्षण किए गए, जिसमें 6,745 करोड़ रुपए की ब्लैक मनी का खुलासा हुआ है। 31 जनवरी को शुरू हुए 'ऑपरेशन क्लीन मनी' के संदर्भ में गंगवार ने कहा की 18 लाख लोगों से ईमेल/एसएमएस के माध्यम से संपर्क किया गया, जिनका कैश ट्रांसजेक्‍शन उनके टैक्स प्रोफाइल के अनुरूप नहीं है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.