जानिए एक ऐसा मुख्यमंत्री कार्यालय जहां रोजाना 18,591 कप चाय की खपत है...यह संभव है

जानिए एक ऐसा मुख्यमंत्री कार्यालय जहां रोजाना 18,591 कप चाय की खपत है...यह संभव हैदेवेंद्र फडणवीस, मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय में प्रतिदिन 18,591 कप चाय की खपत। यह सुनकर एक बार आप सोचेंगे जरूर, क्या यह संभव है।

कांग्रेस पार्टी ने बुधवार को महाराष्ट्र सरकार पर चाय-घोटाला का आरोप लगाया और कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) में रोजाना 18,500 कप चाय की खपत है। मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरुपम ने सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत मिली जानकारी का हवाला देते कहा कि पिछले तीन साल में सीएमओ में चाय की खपत पर खर्च में भारी वृद्धि हुई है।

आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार, वर्ष 2015-16 में सीएमओ में चाय पर 57,99,150 रुपए खर्च हुए जबकि इस मद में खर्च 2017-18 में बढ़कर 3,34,64,904 रुपए हो गया। उन्होंने कहा, "चाय पर हुआ खर्च चौंकाने वाला है। सीएमओ में रोजाना 18,591 कप चाय की खपत है। यह कैसे संभव है?"

ये भी पढ़ें- जिस बजट में देश चलता है उसकी आधी राशि बकाये कर के रुप में सिर्फ कुछ लोगों और कंपनियों के पास फंसी 

उन्होंने पूछा, "(मुख्यमंत्री देवेंद्र) फडणवीस किस प्रकार की चाय पीते हैं क्योंकि मैंने सिर्फ ग्रीन टी, येलो टी और इसी तरह के कुछ नाम सुने हैं।" निरुपम ने व्यंग्य करते हुए कहा, "लगता है सीएम और सीएमओ इतना बड़ा बिल बनाने के लिए कुछ बेहद खर्चीली गोल्डन टी का उपयोग करते हैं।"

ये भी पढ़ें- प्रधानमंत्री को एक आईएएस की चिट्ठी

संजय निरुपम ने कहा, "विडंबना है कि महाराष्ट्र में रोज किसानों की मौत हो रही है लेकिन सीएमओ चाय पर करोड़ रुपए खर्च कर रहा है।"

संजय निरुपम ने सवाल किया कि क्या रोजाना सीएमओ में 18,000 लोगों को चाय पिलाना व्यावहारिक है। उन्होंने व्यंग करते हुए कहा कि मंत्रालय के चूहे चाय पीते होंगे।

ये भी पढ़ें- अब आप देश के किसी भी राज्य में हों इस ऐप के जरिए मंगवा सकते हैं कड़कनाथ मुर्गा

उनका इशारा पूर्व मंत्री एकनाथ खडसे के उस बयान की तरफ था जिसमें उन्होंने महज एक सप्ताह में मंत्रालय के 319,400 चूहों को मारने का दावा किया था। बाद में प्रदेश सरकार ने सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने मंत्रालय में चूहों को मारने के लिए 3,19,400 चूहानाशक दवाओं के इस्तेमाल के बारे में कहा था।

ये भी पढ़ें- अब नहीं जलाना पड़ेगा फसल अवशेष, बीस रुपए में बना सकते हैं जैविक खाद

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट भाषा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top