देश

पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की बेटी दीना वाडिया नहीं रहीं

मुंबई (आईएएनएस)। पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की बेटी दीना वाडिया (98 वर्ष) ने गुरुवार को अपने न्यूयार्क स्थित घर में अंतिम सांस ली। पारिवारिक सूत्रों ने यहां यह जानकारी दी।

दीना वाडिया का जन्‍म भारत-पाकिस्‍तान विभाजन से पहले 14-15 अगस्‍त 1919 को हुआ था।जिन्‍ना को उनसे बेहद प्‍यार भी था, मगर जब 1947 में देश विभाजित हुआ तो दीना ने भारत का नागरिक बनना स्‍वीकार किया। यह जानकर लोगों को हैरानी होती है कि जिसके पिता पाकिस्‍तान के संस्‍थापक रहे, उनकी बेटी ने आखिर क्‍यों भारत में रहने का फैसला किया।

दीना वाडिया जब 17 साल की थी तो उन्हें एक भारतीय पारसी शख्‍स नेविली वाडिया से प्‍यार हो गया और यह जिन्‍ना को यह बिल्‍कुल बर्दाश्‍त नहीं हुआ। मगर दीना ने नेविली वाडिया का साथ चुना। जिन्‍ना को उनके पारसी होने से दिक्‍कत थी, जबकि जिन्‍ना की पत्‍नी और दीना की मां रति एक पारसी थीं और खुले विचारों वाली थीं। दीना जब 10 साल की थीं, तभी वह चल बसीं।

दीना ने अपने पिता की आपत्ति के बावजूद बॉम्बे के पारसी व्यापारी नेविल वाडिया से शादी की थी और बंटवारे के बाद भी भारत में ही रहने का फैसला किया था। वे अपने पीछे बेटी डायना एन. वाडिया, बेटे नुस्ली एन. वाडिया, पौत्र नेस और जेह वाडिया को छोड़ गईं हैं।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

दीना वाडिया सिर्फ दो बार पाकिस्तान गई थी एक बार तब जब 1948 में जिन्‍ना की मौत हुई थी तब वह पहली बार पाकिस्‍तान गईं और उसके बाद 2004 में भी गईं। साथ में उनके बेटे नुस्‍ली वाडिया और पोते भी थे। आपको बता दें कि नुस्‍ली वाडिया एक कामयाब भारतीय बिजनेसमैन हैं और पारसी समुदाय के भी प्रभावशाली सदस्‍य हैं।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।