महाराष्ट्र : दही हांडी समारोहों के दौरान दो गोविंदाओं की मौत, 117 लोग घायल

महाराष्ट्र : दही हांडी समारोहों के दौरान दो गोविंदाओं की मौत, 117 लोग घायलमुंबई में अायोजित दही हांडी समाराेह

मुंबई। जन्माष्टमी के अवसर पर मुंबई एवं आसपास के इलाकों में दही हांडी समारोहों के दौरान मानव पिरामिड बनाते समय हुई दुर्घटनाओं में दो गोविंदाओं की मौत हो गई तथा 117 अन्य घायल हो गए। पालघर और ऐरोली में एक-एक गोविंदा की मौत हुई। इस अवसर पर दही हांडी तोड़ने के लिए समूचे महाराष्ट्र में गोविंदाओं की टोलियों के बीच प्रतिस्पर्धा रहती है। बारिश और घायल होने का भय भी उनके जोश में खलल नहीं डाल पाया। जन्माष्टमी का त्योहार घाटकोपर, दादर, लालबाग और भांडुप सहित समूचे शहर में पूरे उत्साह के साथ मनाया गया। नगर निकाय के अधिकारियों के मुताबिक शाम पांच बजे तक मुंबई में करीब 45 गोविंदा घायल हुए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि घायलों में एक की हालत गंभीर है और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है जबकि अन्य लोगों का प्राथमिक उपचार करने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। पुलिस ने बताया कि पालघर में 21 साल के रोहन किनी की मिरगी का दौरा पड़ने से मौत हो गई। हांडी तोड़ने के बाद उसे मानव पिरामिड से नीचे उतारा गया। लेकिन इसके तुरंत बाद उसे मिरगी का दौरा पड़ा। अस्पताल ले जाते समय शाम करीब साढ़े छह बजे उसकी मौत हो गई।

ऐरोली में जयेश सरले नामक गोविंदा की मौत हुई। उसकी मौत बिजली के तार की चपेट में आने से हुई। वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लागू होने, आयकर की चिंता और नोटबंदी के चलते पिछले साल की तुलना में इस साल दही हांडी समारोह कुछ फीका रहा। गौरतलब है कि एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान बंबई उच्च न्यायालय को राज्य सरकार ने यह भरोसा दिलाया था कि यह सुनिश्चित करेगी कि 14 साल से कम उम्र के बच्चे दही हांडी पिरामिड बनाने में भाग नहीं लेंगे।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top