दूल्हे की मौत का लाइव वीडियो , अपने घर के शादी-समारोहों में ऐसे लोगों को न बुलाइएगा

दूल्हे की मौत का लाइव वीडियो ,  अपने घर के शादी-समारोहों में ऐसे लोगों को न बुलाइएगादुल्हे की द्वारचार के दौरान हुई मौत। फोटो- साभार न्यूज-18

लखनऊ। अगर आप के घर में कोई शादी समारोह है, तो ऐसे किसी रिश्तेदार या दोस्त को उस बुलाने से पहले नीचे दिया गया वीडियो देख लीजिएगा। दूल्हा, दुल्हन लेने के लिए ससुराल पहुंचा था, कुछ देर बाद सात फेरे होने थे, लेकिन एक लापरवाही से चली गोली उसके सीने में लग गई और मौके पर मौत हो गई।

दिल दहला देने वाली, कई सवाल खड़े करती ये घटना उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी के रामपुर गांव में हुई है। महोली जिले का रहने वाला सुनील वर्मा अपनी बारात लेकर लखीमपुर खीरी के नीलगांव थानाक्षेत्र के रामपुर छुतेहरा गांव पहुंचा था। द्वारचार के दौरान नशे में धुत उसके कुछ दोस्तों ने खुशियों को गम में बदल दिया। रामचंद्र नाम के बाराती के लाइसेंसी पिस्टल से चली गोली सुनील वर्मा के सीने में लग गई उसकी मौत हो गई। देखिए वीडियो

इसी दिन लखीमपुर से सटे शाहजहांपुर में आशीष और संध्या की शादी होने वाली थी। मैरिज लान में जयमाला की रस्म होने जा रही थी, जैसे ही आशीष जयमाला दुल्हन के गले में डालने लगा, किसी ने गोली चला दी, आशीष घायल हो गया, दुल्हन बाल-बाल बची। 29 अप्रैल को ही इलाहाबाद में जयमाल के दौरान दूल्हे के दोस्त की फायरिंग में दुल्हन के भाई की मौत हो गई। पिछले एक हफ्ते के अख़बार उठाकर देख लीजिए, या गूगल में हर्ष फायरिंग लीजिए। रोजाना 2-3 घटनाएं समारोहों में फायरिंग की मिलेंगी।

लखीमपुर की घटना का वीडियो सोशल मीडिया वायरल हो रहा है। लेकिन ऐसे घटनाएं अक्सर होती हैं, हालांकि जब तक कोई हाई प्रोफाइल केस न हो, घटनाएं सुर्खियां नहीं बन पातीं। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की 2016 की रिपोर्ट के मुताबिक ऐसी मौत और हत्याएं जिनकी वजह लापरवाही है उनकी संख्या में इजाफा हुआ है। वर्ष 2014 में जहा 128771 घटनाएं हुई थीं वहीं 2015 में ये बढ़कर 134384 और 2016 में इनकी संख्या 140215 पहुंच गई।

यूपी से लेकर पंजाब और दिल्ली तक पूरे देश में इन हर्ष फायरिंग में लोगों की जान गई है। हर्ष फायरिंग खुले में होती है, ऐसे में ज्यादातर मामले लाइसेंसी बंदूक या पिस्टल के होते हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने 2 मई 2012 को दिए एक आदेश में लाइसेंसी असलहा धारकों को शादी समारोहों में फायरिंग में रोक लगा दी थी। 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने हर्ष फायरिंग पर सख्त फैसला सुनाया था। कोर्ट ने इसे गैरकानूनी घोषित किया था। बावजूद इसके हर साल सैकड़ों लोगों की जान जाती है। देखिए वीडियो

शाजहापुर की एक घटना में घायल दूल्हा। फोटो साभार वन इंडिया।

“ज्यादातर ऐसे मामलों में सवाल सिर्फ पुलिस-प्रशासन पर खड़े किए जाते हैं, लेकिन पुलिस लाइसेंस वाले व्यक्ति को हथियार लेकर चलने से नियमत नहीं रोक सकती है, फिर शादी समारोह में ज्यादातर अपने लोग होते हैं, कोई सवाल नहीं करता है, इसमें बड़ी जिम्मेदारी खुद लाइसेंस धारक और परिवार की है।’

लखनऊ में हाई कोर्ट में अधिवक्ता अनुज शुक्ला बताते हैं, “ज्यादातर ऐसे मामलों में सवाल सिर्फ पुलिस-प्रशासन पर खड़े किए जाते हैं, लेकिन पुलिस लाइसेंस वाले व्यक्ति को हथियार लेकर चलने से नियमत नहीं रोक सकती है, फिर शादी समारोह में ज्यादातर अपने लोग होते हैं, कोई सवाल नहीं करता है, इसमें बड़ी जिम्मेदारी खुद लाइसेंस धारक और परिवार की है।’

वो आगे कहते हैं, “ लाइसेंस देते वक्त प्रार्थी शपत पत्र देता है कि वो हथियार का बेजा इस्तेमाल नहीं करेगा। ऐसे मामलों में आर्म्स एक्ट की धाराओं के साथ आईपीसी के तहत केस चलाया जाता है। ज्यादातर मामलों में देखा गया है कि आरोपी नशे में होता है। शराब पर पाबंदी लगे और लोगों खुद अपनी जिम्मेदारी समझे तभी ऐसी घटनाएं रुकेंगी।’

अनुज शुक्ला की बातों दम भी है। सीतापुर के बहादुरगंज में रहने वाले अशोक कुमार के पास लाइसेंसी बंदूक है। वो बताते हैं, सहालग (शादी-बारात का सीजन) के दौरान उनके पास बहुत ज्यादा न्यौते आते है। ज्यादातर लोग चाहते हैं कि हम बंदूक लेकर जाएं। पहले ऐसा होता भी था लेकिन हम नहीं जाते।’

ये भी पढ़ें- ये वीडियो देख लेंगे तो दोबारा चमकदार सब्जी नहीं खरीदेंगे शहर के लोग Video

लखीमपुर हादसा।

हाल में हुई घटनाएं

  • 30 अप्रैल को इलाहाबाद के बारा थाना इलाके में डाडो गांव में बारारियों ने जयमाल के दौरान फायरिंग कर दी, गोली दुल्हन के बगल में खड़े उसके भाई अजय के सीने में लगी, उसकी मौके पर मौत हो गई, हंगामा के बार बारात वापस।
  • 29 अप्रैल को शाहजहापुर में जयमाल के दौरान की जा रही फायरिंग में एक गोली दूल्हे के हाथ में लगी जबकि दुल्हन बाल-बाल बच गई। मामला कोतवाली थाना इलाके के एक गेस्ट हाउस का है।
  • 29 अप्रैल को यूपी के शाहजहांपुर में बारात के दौरान कुछ युवक फायरिंग कर रहे थे, इसी दौरान एक गोली लाइट के गमले लेकर चल रहे युवक के गले में लग गई। उसकी मौक पर ही मौत हो गई।
  • 28 अप्रैल को मेरठ के खासपुर गांव में सगाई समारोह में हुई फायरिंग में बच्चे को लगी गोली, हालत गंभीर।
  • 28 अप्रैल को ही इलाहाबाद के रंगापुरा गांव में सगाई समारोह में हुई हर्ष फायरिंग में एक युवक और उसका 5 साल का भतीजा घायल हो गया, इलाज के दौरान बच्चे की मौत हो गई।
  • 27 अप्रैल यूपी के मऊ जिले में शादी समारोह में हुई हर्फ फायरिंग में गोली दूल्हे के चाचा को लगी, जान बची लेकिन हंगामे और मारपीट के बाद बारात बैरंग लौटी।

ये भी पढ़ें- वायरल वीडियो : गांव में भैंस चराने वाले इस बच्चे के स्टंट आपको हैरत में डाल देंगे

Share it
Share it
Share it
Top