उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर के पास खतौली में उत्कल एक्सप्रेस के करीब छह डिब्बे पटरी से उतरे, 34 यात्री घायल

उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर के पास खतौली में उत्कल एक्सप्रेस के करीब छह  डिब्बे पटरी से उतरे, 34 यात्री घायलउत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर के पास खतौली में कलिंगा उत्कल एक्सप्रेस के करीब छह डिब्बे पटरी से उतरे।

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर के पास खतौली में कलिंगा उत्कल एक्सप्रेस के करीब छह डिब्बे पटरी से उतरे, जिसमें करीब 4 लोगों की मौत हो गई व 34 यात्री घायल हो गए हैं। मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका है। यह ट्रेन पुरी से हरिद्वार जा रही थी।

रेलवे प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने बताया कि चार लोग मारे गए हैं और 20 जख्मी हुए हैं। यह घटना शाम करीब 5:45 बजे हुई, खतौली मुजफ्फरनगर से करीब 25 किलोमीटर दूर है।

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्रेन हादसे की जानकारी ली और कहा कि हरसंभव मदद पहुंचाई जाएगी। यूपी एटीएस की टीम खतौली जा रही है। संभावित आतंकी एंगेल तलाशेगी।

केंद्रीय रेलवे मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा, घटनास्थल पर चिकित्सा वैन भेजी गईं, त्वरित राहत एवं बचाव अभियान सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। सुरेश प्रभु ने बताया कि रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष, सदस्य (यातायात) को बचाव, राहत अभियान की देखरेख करने का निर्देश दिया है, मैं स्थिति की निजी तौर पर निगरानी कर रहा हूं। सुरेश प्रभु ने हादसे की जांच के आदेश दे दिए हैं। दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए जांच का आदेश, कोई खामी पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सुरेश प्रभु ने बताया कि रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा घटनास्थल पर जा रहे हैं। एनडीआरएफ की दो टीम जिनमें 45-45 कर्मी हैं, और दो खोजी कुत्ते गाजियाबाद से मुजफ्फरनगर में घटनास्थल पर भेजे गए।

रेलवे प्रवक्ता अनिल सक्सेना, अभी लोगों के हताहत होने के बारे में कोई प्रामाणिक सूचना नहीं, राहत एवं बचाव अभियान के लिए सभी उपाय करने के पूरे प्रयास कर रहे हैं।

रेलवे हेल्पलाइन : 9760534054-5101

रेलवे के सूत्रों के मुताबिक, हादसे में कई लोगों के मारे जाने की भी आंशका है। जिले के आला अधिकारी घटनास्थल पर पुहंच गए हैं और राहत एवं बचाव कार्य शुरू कर दिया गया है। यह रेलगाड़ी पुरी से हरिद्वार जा रही थी।

मुजफ्फरनगर के खतौली में कलिंग उत्कल एक्सप्रेस के छह डिब्बे पटरी से उतर गए हैं। घटनास्थल पर पटरी टूटी पाई गई है। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, हादसे के बाद डिब्बे एक-दूसरे के ऊपर चढ़ गए। राहत और बचाव कार्य शुरू हो गया है।

पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पंहुच गए हैं। दुर्घटना के बाद सहारनपुर और मुजफ्फरनगर से अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं।

रेलवे के उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक, इस हादसे के पीछे साजिश से भी इनकार नहीं किया जा रहा है, क्योंकि पटरी टूटी हुई मिली है।

हादसे के बारे में उप्र के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आनंद कुमार ने बताया, "उत्कल एक्सप्रेस के चार डिब्बे पटरी से उतरने की सूचना है। इसमें एक दो डिब्बे नजदीकी घरों में भी घुस गए हैं। सूचना के बाद ही तुरंत जिले के एसएसपी और जिलाधिकारी को मौके पर पहुंचने का आदेश दिया गया है।"

उन्होंने बताया, "अभी यह कह पाना मुश्किल है कि कितने लोग हताहत हुए हैं। हादसे कैसे हुआ इसकी जांच रेलवे की तरफ से की जाएगी। सभी सरकारी और निजी एंबुलेंस को जल्द से जल्द घटनास्थल पर ले जाने का आदेश दिया गया है।"

मेरठ जोन के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) प्रशांत कुमार बताया कि घायलों की वास्तविक संख्या का पता अब तक नहीं लगाया जा सका है। हालांकि, हादसे के चश्मदीदों ने कहा कि कम से कम 20 लोग जख्मी हुए हैं। रेल मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि वे शाम करीब 5:45 बजे हुए इस हादसे के ब्यौरे का इंतजार कर रहे हैं।

टीवी फुटेज में पटरी से उतरे डिब्बे एक घर में घुसे नजर आ रहे हैं। दिल्ली में अधिकारियों ने बताया कि स्थानीय प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं और बचाव का काम चल रहा है। इस हादसे के कारण उत्तर रेलवे के इस व्यस्त मार्ग पर ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित होने की आशंका है।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ज्ञात हो कि कानपुर के पास पुखरायां में भी पिछले साल इसी तरह का हादसा हुआ था। इसमें पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ सामने आया था। एनआईए इसकी जांच कर रही है।

Share it
Top