पूरे देश में तीन मई तक लॉकडाउन की घोषणा, पीएम मोदी ने इन सात बातों पर मांग देश का साथ

कोरोना वायरस महामारी के मामले देश में बढ़ते जा रहे हैं। मंलगलवार 14 अप्रैल को 21 दिनों का लॉकडाउन भी खत्म हो गया। इस बीच देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को एक बार फिर संबोधित किया। अपने भाषण की शुरुआत में उन्होंने कहा कि अभी तक भारत ने कोरोना से लड़ाई बहुत मजबूती से लड़ी है और हम सामुदायिक संक्रमण से अभी तक बचे हुए हैं। सभी लोगों ने अनुशासित सिपाही की तरह अपना कर्तव्य निभाया है। इसके लिए सभी देशवासियों को धन्यवाद और नमन।

आज बाबा भीमराव अम्बेडकर का जन्मदिन है। उन्होंने जिन मूल्यों को हमें दिया था, उसको लेकर हम कोरोना से लड़ाई लड़ रहे हैं। यह बाबा साहब को सच्ची श्रद्धांजलि है।

कोरोना से सही समय पर शुरू की भारत ने लड़ाई

पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने कोरोना से लड़ाई बहुत ही सही समय पर शुरू कर दी थी। जब भारत में कोरोना के 100 से भी कम मरीज थे, तभी से हमने विदेश से आने वाले लोगों को 14 दिनों तक कोरोन्टाइन करना शुरू कर दिया था ताकि संक्रमण को कम से कम किया जा सके। हम दुनिया के बाकी देशों की तुलना में कहीं बेहतर स्थिति में हैं।

सोशल डिस्टेंसिंग का मिला लाभ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कि अगर भारत ने लड़ाई सही समय पर शुरू नहीं की होती तो भारत की स्थिति को सोचा भी नहीं जा सकता था। भारत को सोशल डिस्टेंसिंग का लाभ मिला है। हमें आर्थिक रूप से नुकसान तो हुआ है लेकिन यह संभावित मानवीय नुकसान की तुलना में बहुत कम है।

लॉकडाउन को बढ़ाया गया

पीएम मोदी ने कहा कि चूंकि सोशल डिस्टेंसिंग कोरोना से लड़ाई का एकमात्र उपाय है। कई लोगों ने इसकी सलाह दी है। कई राज्यों ने भी इसे बढ़ाया है। इसलिए तीन मई तक लॉकडाउन बढ़ाया जाता है। मेरी सभी देशवासियों से प्रार्थना है कि लॉकडाउन का उसी तरह पालन करें जैसे वे अब तक करते आए हैं।

सात बातों में चाहिए आपका साथ

1-घर के बुजुर्गों और मरीजों का रखें ध्यान

2-लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की लक्ष्मण रेखा का प्रयोग करें, मास्क का उपयोग करें

3-आयुष मंत्रालय के गाइडलाइंस का उपयोग करें, काढ़ा और गर्म पानी का प्रयोग करें

4-आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करें

5-जितना हो सके उतना गरीब परिवार की देख-रेख करें, उनकी भोजन की आवश्यकता को पूरी करें

6-किसी को नौकरी से ना निकालें, कर्मचारियों के प्रति संवेदना रखें

7-डॉक्टर, नर्सेस, सफाईकर्मी, पुलिसकर्मी और अन्य कोरोना योद्धाओं का सम्मान करें

ये सात बातें कोरोना से विजय प्राप्त करने का मार्ग है।

कोरोना के मामले 10 हजार के पार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को देश में लॉकडाउन की घोषणा की थी। तब देश में कोरोना ने पांव पसार रहा था। 24 मार्च को देश में कोरोना के कुल केस सिर्फ 519 थे, जिनमें से पांच की मौत हो गई थी, जबकि केरल के तीन लोग ठीक हो गए थे। 20 दिन बाद 14 अप्रैल तक देश में 10,453 पॉजिटिव केस हो गए। इनमें से 358 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 980 लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं।

Updating...

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.