देश के किसानों से प्रधानमंत्री मोदी करेंगे सीधी बात, यूपी में 21 जून से किसान पाठशाला फिर शुरू

एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 20 जून को देश के किसानों के साथ बातचीत करेंगे और खेती-किसानी पर उनके अनुभव जानेंगे, वहीं उत्तर प्रदेश में 21 जून से किसान पाठशाला फिर से शुरू होने जा रही है।

देश के किसानों से प्रधानमंत्री मोदी करेंगे सीधी बात, यूपी में 21 जून से किसान पाठशाला फिर शुरूफोटो साभार: इंटरनेट

कन्नौज। एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 20 जून को देश के किसानों के साथ बातचीत करेंगे और खेती-किसानी पर उनके अनुभव जानेंगे, वहीं उत्तर प्रदेश में 21 जून से किसान पाठशाला फिर से शुरू होने जा रही है।

प्रधानमंत्री मोदी बुधवार को सुबह 9:30 बजे देश के अन्नदाताओं के साथ अनुभव साझा करेंगे। इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण डीडी न्यूज में होगा। दूसरी ओर, किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य के साथ 21 जून से उत्तर प्रदेश में किसान पाठशाला का फिर से आगाज हो रहा है। किसान पाठशाला में इस बार तीन-तीन दिन तक सुबह दो घंटे तक किसानों को जानकारी दी जाएगी। पहला चरण 21 जून से और दूसरा 25 जून से आयोजित होगा।


कानपुर मंडल आयुक्त सुभाष चंद्र शर्मा ने कानपुर नगर, कानपुर देहात, कन्नौज, इटावा, फर्रुखाबाद और औरैया जिलों के डीएम को भेजे पत्र में इसका हवाला दिया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की ओर से दिसम्बर 2017 में द मिलियन फारमर्स स्कूल (किसान पाठशाला) आयोजित हुई थी। अब द्वितीय संस्करण का आगाज 21 जून से होगा।

यह भी पढ़ें : खेती करते हुए लगी चोट तो मिलेंगे 3 हजार से 60 हजार तक रुपए , जानिए कैसे

आयुक्त ने बताया है, ''पहला माड्यूल 21 से 23 जून तक सुबह नौ बजे से 11 बजे तक चलेगा। दूसरा माड्यूल 25 जून से 27 जून तक आयोजित होगा। गर्मी को देखते हुए किसान पाठशाला के दिनों की संख्या पांच से घटाकर तीन कर दी गई है, हालांकि प्रतिदिन एक घंटे की अवधि को बढ़ाकर दो कर दिया गया है।"

उन्होंने कहा, ''किसान पाठशाला के जो भी चयनित स्कूल हैं, वहां ग्राम पंचायत सचिव और लेखपाल के सहयोग से किसानों के बैठने की व्यवस्था करा ली जाए। हर स्कूल में एक-एक नोडल अधिकारी तैनात कर दिया जाए।"

जनप्रतिनिधियों से कराएं शुभारंभ

आदेश में कहा गया है कि किसान पाठशाला का शुभारंभ सांसद, विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, जिला पंचायत सदस्य और ब्लॉक प्रमुख आदि से कराया जाए। प्रभारी उप परियोजना निदेशक/जेई अजीत सिंह बताते हैं, ''हर न्याय पंचायत से दो-दो ग्रामों का चयन हो चुका है। पहले और दूसरे चरण में एक-एक ग्राम का रोस्टर जारी कर दिया गया है। यहां पर ही किसानों के लिए पाठशाला का आयोजन होगा। दिसम्बर 17 में जिन ग्रामों का चयन हो चुका है, वहां पाठशाला नहीं लगेंगी।"

किसानों को ऐसे दी जाएगी योजनावार जानकारी

डीडी कृषि आरएन सिंह बताते हैं, ''प्रथम और द्वितीय चरण के पहले दिन 21 और 25 जून को सुबह नौ से 11 बजे तक किसानों की आय दोगुना करने की रणनीति, एकीकृत फसल प्रबंधन, अंर्तफसली खेती, कृषि वानिकी, दुग्ध उत्पादन, मुर्गी पालन, मछली पालन, सब्जी की खेती एवं बागवानी की जानकारी दी जाएगी।"

डीडी कृषि ने आगे बताया, ''पशुपालन की प्रमुख योजनाएं रूरल बैकयार्ड पोल्ट्री डेवलपमेंट, पं. दीनदयाल उपाध्याय लघु डेयरी योजना, डिजीज फ्री जोन की स्थापना, जोखिम प्रबंधन एवं पशुधन बीमा के बारे में भी बताया जाएगा। साथ ही उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण एकीकृत बागवानी मिशन, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना व राष्ट्रीय कृषि विकास योजना पर प्रकाश डाला जाएगा।"

उन्होंने कहा, ''पहले और दूसरे चरण के दूसरे दिन 22 और 26 जून को प्रदेश की खरीफ फसलों की उन्नतशील प्रजातियों एवं उपज वृद्धि के लिए भूमि शोधन, बुवाई, बीज षोधन, धान नर्सरी, समय से रौपाई, कीट प्रबंधन, मृदा स्वास्थ्य कार्यक्रम, पारदर्शी किसान सेवा योजना/कृषक पंजीकरण, फसल अवशेष प्रबंधन/जलाने पर हानि एवं अर्थदंड के बारे में बताया जाएगा।"

आरएन सिंह आगे बताते हैं, ''दोनों चरणों के अंतिम दिन 23 और 27 जून को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, खरीफ बीजों पर अनुदान, सिंचाई एवं जल प्रबंधन, खेत तालाब, बौछारी सिंचाई एवं सोलर पंप, कृषि यंत्रीकरण और वर्मी कंपोस्ट स्थापना कार्यक्रम के बाबत जानकारी दी जाएगी।"

यह भी पढ़ें : आप शहर में भी कर सकते हैं खेती, अपनी छतों को उपजाऊ बनाइए, जानिए कैसे ?

यह भी पढ़ें : कृषि विभाग में रजिस्ट्रेशन कराकर किसान पा सकते हैं खरीफ के बीजों पर 50 फीसदी तक अनुदान




Share it
Top