Top

राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) साल में एक बार कराने का प्रस्ताव  

राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) साल में एक बार कराने का प्रस्ताव  परीक्षा (प्रतिकात्मक फोटो)।

नई दिल्ली (भाषा)। सीबीएसई ने कॉलेज एवं विश्वविद्यालय के लिए शिक्षकों की भर्ती से संबंधित योग्यता परीक्षा, राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा नेट साल में एक ही बार कराने का प्रस्ताव दिया है। साथ ही जुलाई में होने वाली परीक्षा को लेकर बनी अनिश्चितता को समाप्त करते हुए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने फैसला किया है कि सीबीएसई ही यह परीक्षा कराएगी। हालांकि पहले सीबीएसई ने परीक्षा आयोजित करने में असमर्थता जताई थी।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

सूत्रों के अनुसार प्रस्ताव शुरुआती स्तर पर है परीक्षा आयोजित करने के लिए जरुरी संसाधन और इसमें शामिल होने वाले उम्मीदवारों की संख्या को ध्यान में रखते हुए प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है।सूत्रों मुताबिक‘‘सीबीएसई ने इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए यह विचार प्रस्तावित किया है कि पंजीकृत उम्मीदवारों में से केवल 17 प्रतिशत ही परीक्षा के लिए आते हैं और उनमें से केवल चार प्रतिशत ही परीक्षा उत्तीर्ण कर पाते हैं।''

गौरतलब हैं कि इस समय जूनियर रिसर्च फेलोशिप और विश्वविद्यालयों एवं कॉलेजों में सहायक प्रोफेसर बनने की पात्रता के लिए हर साल दो बार जुलाई और दिसंबर में यह परीक्षा आयोजित की जाती है। कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की भर्ती के लिए नेट परीक्षा उत्तीर्ण होना अनिवार्य होता हैं।केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सीबीएसई ने पिछले साल परीक्षा कराने में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के समक्ष असमर्थता जताते हुए कहा था कि उस पर अन्य परीक्षाओं के आयोजन का काम भी है।

ये भी पढ़े: नेट को लेकर यूजीसी ने समाप्त की अनिश्चितता, सीबीएसई ही कराएगी परीक्षा

मंत्रालय ने इस संबंध में कोई दिशानिर्देश जारी नहीं किया, वहीं सीबीएसई ने अभी तक जुलाई में होने वाली परीक्षा के लिए अधिसूचना जारी नहीं की है जो सामान्य तौर पर हर साल अप्रैल के पहले सप्ताह में जारी की जाती है।पिछले सप्ताह कई छात्रों ने यूजीसी दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया था और मांग की थी कि परीक्षा को लेकर अनिश्चितता समाप्त की जाए और अधिसूचना जारी की जाए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.