CBSE Class 12th Results : नोएडा की रक्षा गोपाल ने किया टॉप पर पास प्रतिशत गिरा

CBSE Class 12th Results : नोएडा की रक्षा गोपाल  ने किया टॉप पर पास प्रतिशत गिराकेंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने आज 12वीं कक्षा के नतीजे घोषित कर दिए। जिसमें नोएडा की रक्षा गोपाल ने टाप किया।

नई दिल्ली (भाषा)। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने आज 12वीं कक्षा के नतीजे घोषित कर दिए। नोएडा की रक्षा गोपाल 99.6 फीसदी अंक प्राप्त करके पहले स्थान पर रही। दूसरा और तीसरा स्थान क्रमश: चंडीगढ़ की भूमि सावंत और आदित्य जैन ने हासिल किया। उन्होंने क्रमश: 99.4 प्रतिशत और 99.2 फीसदी अंक प्राप्त किए है।

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावडेकर ने टॉपरों से बात करके उन्हें उनके प्रदर्शन के लिए मुबारकबाद दी। जावड़ेकर ने छात्रों को वीडियो संदेश में बताया, "मैं अच्छे अंक अर्जित करने वाले सभी छात्रों को बधाई देता हूं। सफलता आपको ताकत और आत्मविश्वास देती है। सभी बोर्ड के छात्रों को भी बधाई।"

जावड़ेकर ने परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाने वाले छात्रों को भी ढांढस देते हुए कहा कि जब तक हम प्रयास जारी रखे हुए हैं, तब तक हार अंतिम नहीं है। उन्होंने कहा, "आप और कोशिश करो तो आपको सफलता मिलेगी।" उन्होंने कहा, "मैंने शीर्ष चार टॉपर्स रक्षा गोपाल, भूमि सावंत डे, मन्नत लूथरा और आदित्य जैन से फोन पर बात की।"

उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि टॉपर्स कला, विज्ञान और कॉमर्स विधाओं से हैं। एक टॉपर अर्थशास्त्री बनना चाहता है तो एक आईएएस अधिकारी, जबकि दो अन्य इंजीनियरिंग और रानजीतिक विज्ञान में हाथ आजमाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि छात्रों की सफलता का श्रेय उनकी मेहनत, लगन, परिजनों और शिक्षकों को जाता है।

देखिए टापर रक्षा गोपाल की मार्कशीट...

सीबीएसई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि समूचे भारत के स्तर पर उत्तीर्ण का प्रतिशत 83.05 प्रतिशत से गिरकर इस साल 82 फीसदी हो गया।

बोर्ड ने 12वीं कक्षा के परिणामों के बाद मनोवैज्ञानिक परामर्श के लिए एक हेल्पलाइन शुरू की है, 18000118004 निशुल्क नम्बर पर फोन करके सलाह ली जा सकती है। अधिकारी ने कहा, ‘‘65 परामर्शदाता सुबह आठ बजे से रात 10 बजे तक हेल्पलाइन नम्बर पर छात्रों और अभिभावकों से बात करेंगे।''

सीबीएसई इंटरनेट पर अपने नतीजे जारी करता है और इसमें भारत सरकार का संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय का सूचना प्रौद्योगिकी विभाग का राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) तकनीकी सहयोग देता है।

बोर्ड ने एक साथ अपने सभी 10 क्षेत्रों के परिणामों का ऐलान किया है, दिल्ली क्षेत्र में सबसे ज्यादा उम्मीदवार (2,58,321) रहे। इसके बाद पंचकुला (1,84,557) और अजमेर (1,31,449) के छात्र थे। कुल मिलाकर 2,497 दिव्यांग छात्रों ने इस साल परीक्षा के लिए पंजीकरण कराया था।

कॉलेजों की उच्च कट ऑफ को रोकने के लिए सीबीएसई ने कृपांक नीति को रद्द कर दिया था जिसमें इम्तिहानों में मुश्किल सवालों के लिए छात्रों को ग्रेस अंक दिए जाते हैं।

बहरहाल, दिल्ली उच्च न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद बोर्ड ने बदलाव को अगले साल से लागू करने का निर्णय लिया है।

Share it
Top