Top

ई-वे बिल राजस्व वसूली लक्ष्य पाने में मददगार : विशेषज्ञ  

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   31 March 2018 4:34 PM GMT

ई-वे बिल राजस्व वसूली लक्ष्य पाने में मददगार : विशेषज्ञ  ट्रक चालक 

नई दिल्ली। उद्योग जगत के विशेषज्ञों का मानना है कि माल परिवहन के लिए ई-वे बिल व्यवस्था लागू होने से राजस्व वसूली लक्ष्य हासिल करने में मदद मिलेगी लेकिन व्यवस्था के पूरी तरह से लागू होने तक सरकार को छोटे उद्योगों और व्यापारियों को सहारा देना जरूरी है।

देश में एक राज्य से दूसरे राज्य के बीच माल परिवहन को जीएसटी नेटवर्क के तहत लाने के लिए इलेक्ट्रानिक-वे बिल व्यवस्था कल यानी एक अप्रैल 2018 से लागू हो रही है।

कोई भी व्यापारी अपने जीएसटीआईएन का इस्तेमाल करते हुए माल भेजने के लिए ई-वे बिल पोर्टल पर पंजीकरण करा सकता है। एक राज्य से बाहर दूसरे राज्य में पचास हजार रुपए से अधिक का माल भेजने पर ई-वे बिल में पंजीकरण कराना जरूरी होगा। हालांकि, इसमें जीएसटी से छूट प्राप्त वस्तुओं का मूल्य शामिल नहीं होगा।

ये भी पढ़ें- मेगा फूड पार्क किसानों के लिए एक सौगात: हरसिमरत  

पीएचडी वाणिज्य एवं उद्योग मंडल की अप्रत्यक्ष कर समिति के अध्यक्ष बिमल जैन ने कहा ई-वे बिल व्यवस्था के अमल में आने से सरकार को राजस्व वसूली लक्ष्य हासिल करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि ई-वे बिल व्यवस्था लागू होने के बाद शुरुआत में ही राजस्व वसूली 10-15 प्रतिशत तक बढ़ सकती है।

ये भी पढ़ें- कभी आंखों की खूबसूरती को चार चांद लगाने वाले बरेली के सुरमे की मांग घटी

उल्लेखनीय है कि सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद जीएसटी राजस्व संग्रह उस गति से नहीं बढ़ पा रहा है जितना बढ़ना चाहिए था। फरवरी में जीएसटी संग्रह 85,174 करोड़ रुपए रहा है जो कि जनवरी 2018 की प्राप्ति 86,318 करोड़ रुपए से कम रहा। देश में जुलाई 2017 में जीएसटी व्यवस्था लागू होने पर पहले महीने में जीएसटी प्राप्ति 93,590 करोड़ रुपए रही। उसके बाद सितंबर में यह सबसे ज्यादा 95,132 करोड़ रुपए रही और उसके बाद इसमें गिरावट आ गई।

ये भी पढ़ें- सूखे इलाकों में पैसे कमाना है तो करें लेमनग्रास की खेती, खेती और बिक्री की पूरी जानकारी

बिमल जैन ने कहा कि सरकार को ई-वे बिल की सफलता के लिए छोटे और असंगठित क्षेत्र को सहारा देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा, जब भी कोई नई व्यवस्था अमल में आती है तो उसके लिए चीजों को समझना और प्रशिक्षण देना जरूरी होता है। शुरुआती दौर में यदि किसी से कोई गलती होती है तो कम से कम छह माह तक जुर्माना और दंडात्मक कारवाई से बचा जाना चाहिए और गलती को सुधारने पर जोर दिया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें- सिहद्दा का नाम सुना है क्या, आखिर क्यों गांव-गांव खाक छान रहे अधिकारी

अखिल भारतीय मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के अध्यक्ष एस.के. मित्तल ने ई-वे बिल की तैयारियों के बारे में पूछे जाने पर कहा, हम इस व्यवस्था को लेकर सरकार के साथ हैं। देश में छोटे-बड़े तीन लाख से ज्यादा ट्रांसपोर्टर हैं। ई-वे बिल जनरेट करने का काम मुख्यत: माल भेजने वाले अथवा प्राप्त करने वाले कारोबारियों का होगा। एक राज्य से दूसरे राज्य में माल भेजने का काम ज्यादतर बड़े व्यापारी ही करते हैं। सप्लायर ई-वे बिल जनरेट करेगा और उसके बाद इसमें गाड़ी नंबर डाला जाएगा। ट्रांसपोर्टर का काम माल को गंतव्य तक सुरक्षित पहुंचाना है।

ये भी पढ़ें- प्रधानमंत्री को एक आईएएस की चिट्ठी

बिमल जैन से जब यह पूछा गया कि ई-वे बिल से कर चोरी कैसे रुकेगी तो जवाब में उन्होंने कहा कि ई-वे के लिए पंजीकरण कराने से यह रिकार्ड में आ जाएगा और कारोबार के बारे में जानकारी मिलेगी। हालांकि, यदि कोई माल जॉब वर्क के संबंध में भेजा जा रह है तो आपूर्तिकर्ता अथवा पंजीकृत जॉब वर्कर को ई-वे बिल लेना होगा। जैन ने कहा कि आने वाले दिनों में ई-वे बिल व्यवस्था स्थापित हो जाने के बाद इसे रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन डिवाइस के साथ जोड़ने से यह व्यवस्था और पुख्ता हो जाएगी।

ये भी पढ़ें- जानिए एक ऐसा मुख्यमंत्री कार्यालय जहां रोजाना 18,591 कप चाय की खपत है...यह संभव है

मोटर ट्रांसपोर्ट के महासचिव नवीन कुमार गुप्ता ने कहा, ट्रांसपोर्टरों को भ्रष्टाचार से मुक्ति मिलनी चाहिए। माल की पूरी जिम्मेदारी सप्लायर यानी आपूर्तिकर्ता की होनी चाहिए। कोई भी गड़बड़ी होने पर ट्रांसपोर्टर को परेशान नहीं किया जाना चाहिए बल्कि आपूर्तिकर्ता को पकड़ा जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें- दो हजार रुपए की इस मशीन से किसान पाएं कृषि कार्य के अनेक फायदे

मित्तल ने कहा कि परचून का काम करने वाले छोटे व्यापारियों के मामले में ई-वे बिल की वैधता को शुरू में दो दिन के लिए किया जाना चाहिए क्योंकि कई बड़े शहरों में ट्रकों के प्रवेश पर कई-कई घंटे की रोक होती है। केवल रात में ही वह माल पहुंचा सकते हैं, इस लिहाज से ई-वे बिल की 100 किलोमीटर दूरी के लिए वैधता एक दिन के बजाय दो दिन की जानी चाहिए।

ये भी पढ़ें- जम्मू कश्मीर में शुष्क मौसम से केसर उत्पादन में भारी कमी

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट भाषा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.