देश

भाजपा सांसद नाना पटोले का पार्टी और लोकसभा से इस्तीफा 

नई दिल्ली (भाषा)। विभिन्न मुद्दों पर महाराष्ट्र सरकार की आलोचना करते रहे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी कटाक्ष कर चुके राज्य से भाजपा सांसद नाना पटोले ने पार्टी और लोकसभा से इस्तीफा दे दिया है, यह जानकारी खुद नाना पटोले ने दी।

पूर्व में वह कांग्रेस सहित अन्य दलों में रह चुके हैं, वह 2014 के लोकसभा चुनावों के पहले भाजपा में शामिल हुए थे। इस चुनाव में उन्होंने भंडारा गोंडिया निर्वाचन क्षेत्र से राकांपा के कद्दावर नेता प्रफुल्ल पटेल को पराजित किया था। किसानों की बदहाली सहित कई मुद्दों पर उन्होंने भाजपा की निंदा की। भंडारा-गोंदिया से सांसद नाना पटोले ने कहा कि उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के कार्यालय को और भाजपा नेतृत्व को अपना इस्तीफा सौंप दिया है।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को भेजे एक पत्र में उन्होंने अपने इस्तीफे के लिए कृषि, अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी जैसे 14 मुद्दों को कारण के तौर पर गिनाया। नाना पटोले ने आरोप लगाया कि उन्होंने प्रधानमंत्री के समक्ष भी बार बार मुद्दे उठाए लेकिन उन्होंने उन्हें नजरंदाज कर दिया।

हाल के महीनों में भाजपा नेतृत्व के जोरदार आलोचक रहे पटोले ने कहा कि वह पार्टी इसलिए छोड़ रहे हैं, क्योंकि वह काफी दुखी और पार्टी द्वारा खुद को उपक्षेति महसूस कर रहे हैं।

राजनीति से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

लोकसभा सचिवालय को अपना इस्तीफा सौंपने के तत्काल बाद उन्होंने मीडिया से कहा, "जिस वजह से मैं पार्टी(भाजपा) में शामिल हुआ था, वह झूठा साबित हुआ। लेकिन अब मैं(इस्तीफा देने के बाद) अपने भीतर की बैचेनी से मुक्त हो गया हूं।"

पटोले ने कहा कि उन्होंने अभी तक यह तय नहीं किया है कि वह किस पार्टी में शामिल होंगे, लेकिन वह 'किसी समान विचारधारा वाले राजनीतिक दल' में शामिल होने पर विचार करेंगे।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।