यह संसद है और जो आप कर रहे हैं वह पूरा देश देख रहा है, वेंकैया नायडू ने राज्यसभा में हंगामे पर कहा

यह संसद है और जो आप कर रहे हैं वह पूरा देश देख रहा है, वेंकैया नायडू ने राज्यसभा में हंगामे पर कहाराज्यसभा 

नई दिल्ली ( भाषा )। राज्यसभा सभापति एम वेंकैया नायडू ने कांग्रेस के सदस्यों के हंगामे पर कहा कि, आपका यह आचरण उचित नहीं है, जो आप कर रहे हैं वह देश के लिए, लोकतंत्र के लिए और सदन के लिए अच्छा नहीं है, यह संसद है और जो आप कर रहे हैं वह पूरा देश देख रहा है।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर कथित टिप्पणी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफी की मांग कर रहे कांग्रेस सदस्यों के हंगामे के कारण राज्यसभा की बैठक आज एक बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। इससे पूर्व राज्यसभा की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई थी।

सदन की बैठक शुरू होने पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने आवश्यक दस्तावेज पटल पर रखवाए। इसके बाद उन्होंने जैसे ही शून्यकाल शुरू करने को कहा, कांग्रेस के प्रमोद तिवारी, रिपुन बोरा और रजनी पाटिल सहित कुछ सदस्यों ने कहा कि उन्होंने कामकाज स्थगित करने के लिए नियम 267 के तहत नोटिस दिया है।

इन सदस्यों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के खिलाफ की गई कथित टिप्पणी का मुद्दा उठाया और कहा कि प्रधानमंत्री को सदन में आ कर माफी मांगनी चाहिए। कुछ सदस्य अपनी मांग के पक्ष में नारे लगाते हुए आसन के समक्ष आ गए।

नायडू ने इन सदस्यों से अपने स्थानों पर लौट जाने और सदन की कार्यवाही चलने देने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा आपका यह आचरण उचित नहीं है, जो आप कर रहे हैं वह देश के लिए, लोकतंत्र के लिए और सदन के लिए अच्छा नहीं है, यह संसद है और जो आप कर रहे हैं वह पूरा देश देख रहा है, उन्होंने कहा कि उन्हें नियम 267 के तहत नोटिस मिले हैं लेकिन उन्होंने वे नोटिस स्वीकार नहीं किए हैं।

उन्होंने हंगामा कर रहे सदस्यों से कार्यवाही बाधित न करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा यह तरीका नहीं है, यह संसद है, लोगों के बीच गलत संदेश जाएगा। अपनी सीमा पार न करें और अपने स्थानों पर लौट जाएं।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

सभापति ने यह भी कहा कि विभिन्न राज्यों के महत्वपूर्ण मुद्दे शून्यकाल के तहत उठाए जाने हैं. उन्होंने हंगामा कर रहे सदस्यों से पूछा क्या आपके लिए मुद्दे महत्वपूर्ण नहीं हैं ? सदन में व्यवस्था बनते न देख उन्होंने 11 बज कर करीब 15 मिनट पर बैठक दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

संसद के दोनों सदनों में आज के विधायी कार्य निम्नलिखित हैं :-

लोकसभा में पेश होने वाले विधेयक-

  1. भारतीय वन (संशोधन) विधेयक-2017
  2. स्थावर संपत्ति अधिग्रहण एवं अर्जन (संशोधन) विधेयक-2017
  3. सरकारी स्थान (अप्राधिकृत अधिभोगियों की बदेखली) संशोधन विधेयक-2017

राज्यसभा में विचार और पारित होने के लिए पेश होने वाले विधेयक-

  1. भारतीय पेट्रोलियम एवं ऊर्जा संस्थान विधेयक-2017.
  2. स्टेट बैंक निरसन और संशोधन विधेयक 2017
  3. राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक संशोधन विधेयक 2017

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top