‘वर्ष 2016-17 में मनरेगा के तहत कुल रोजगार सृजन पिछले छह साल में सबसे अधिक’

‘वर्ष 2016-17 में मनरेगा के तहत कुल रोजगार सृजन पिछले छह साल में सबसे अधिक’‘वर्ष 2016-17 में मनरेगा के तहत कुल रोजगार सृजन पिछले छह साल में सबसे अधिक’

नई दिल्ली (भाषा)। सरकार ने आज बताया कि वर्ष 2016-17 में मनरेगा के तहत कुल रोजगार सृजन 235.77 करोड़ व्यक्ति दिवस हुआ, जो पिछले छह साल में सर्वाधिक है।

लोकसभा में ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि वित्त वर्ष 2017-18 में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के तहत बजटीय अनुमान 48,000 करोड़ रुपया है।

ये भी पढ़ें - अब कागजों पर नहीं खोदे जा सकेंगे मनरेगा के तालाब, जियोटैगिंग के जरिए जनता भी देखेगी कहां, कितना हुआ काम

मंत्री ने बताया कि मंत्रालय ने पिछले तीन साल में मनरेगा के जरिए ग्रामीण बुनियादी ढांचा के निर्माण पर भी जोर दिया है। वहीं, पिछले दो साल में प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के लाभार्थियों के घरों में शौचालय, कृषि एवं संबद्ध गतिविधियों के लिए बुनियादी ढांचा को भी बढावा दिया गया है।

ये भी पढ़ें - गाँवों में मनरेगा से हो रहा ग्रामीणों का विकास

उन्होंने सदन को बताया कि इन प्रयासों के परिणामस्वरुप वर्ष 2016-17 में मनरेगा में कुल रोजगार सृजन 235.77 करोड़ व्यक्ति दिवस पहुंच गया, जो पिछले छह साल में सर्वाधिक है। उन्होंने बताया कि वित्त मंत्रालय ने 2017-18 के लिए द्वितीय अनुपूरक अनुदान मांग के तहत 6,000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त कोष आवंटित किया है।

ये भी पढ़ें -

मनरेगा श्रमिकों को कई महीने से नहीं मिली मजदूरी, पलायन को मजबूर

जियो टैगिंग 2 से मनरेगा पर होगी सख्त निगरानी

मनरेगा प्रभाव: ग्रामीण इलाकों में रहनेवाले परिवारों की आय में 11 फीसदी बढ़ोतरी

Share it
Top