एनटीपीसी हादसे में मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए अनुग्रह राशि देने का पीएम मोदी का ऐलान 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   2 Nov 2017 3:37 PM GMT

एनटीपीसी हादसे में मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए अनुग्रह राशि देने का पीएम मोदी का ऐलान लखनऊ के एक अस्पताल में भर्ती एनटीपीसी के घायल मजदूर।  

नई दिल्ली (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के रायबरेली में नेशनल टर्मिनल पावर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) के संयंत्र में बॉयलर फटने की घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को गुरुवार को दो-दो लाख रुपए की मुआवजा राशि देने का ऐलान किया।

सरकारी कंपनी एनटीपीसी के संयंत्र में बुधवार को हुए विस्फोट में घायलों को 50,000 रुपए की राशि देना का ऐलान किया गया। प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्विटर कर इसकी जानकारी दी। इस घटना में दो और घायलों के दम तोड़ने के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 26 हो गई है।

राज्य सरकार ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं जबकि एनटीपीसी ने भी घटना की जांच शुरू कर दी है। ऐसा कहा जा रहा है कि यह दुर्घटना बॉयलर की राख वाली पाइप के फटने से हुई।

रायबरेली जिला मजिस्ट्रेट संजय कुमार खत्री ने बताया कि घायलों की संख्या 64 है। लखनऊ-इलाहाबाद राजमार्ग पर ऊंचाहार में 500 मेगावाट बॉयलर इकाई में भयावह विस्फोट हुआ था। जब बॉयलर फटा तो इसकी चपेट में कई लोग आए। विस्फोट के बाद निकली भारी मात्रा में निकली धूल का गुबार फैलने से बचाव अभियान मुश्किल हो गया।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने रायबरेली जिले के ऊंचाहार स्थित राष्ट्रीय ताप विद्युत निगम (एनटीपीसी) के संयंत्र का बॉयलर फटने से हुई 26 लोगों की मौत पर दुख जताते हुए कहा कि वह तय समय से पहले संयंत्र का संचालन शुरू किए जाने की जांच करवाने की मांग करेंगे। घायलों का हालचाल पूछने यहां पहुंचे राहुल ने एनटीपीसी संयंत्र परिसर में अधिकारियों से बातचीत कर स्थिति का जायजा लिया।

किसी ने राहुल गांधी को बताया कि इस संयंत्र को तीन साल के भीतर चलाया जाना था, लेकिन समय से पहले, ढाई साल में ही इसका संचालन शुरु कर दिया गया।

इस पर राहुल ने कहा, हम जांच की मांग करेंगे। लोग कह रहे हैं कि इसको (संयंत्र) जल्दी चला दिया..... चलाना नहीं चाहिये था। इस दौरान उनके साथ कांग्रेस महासचिव गुलाम नबी आजाद और दल के प्रान्तीय अध्यक्ष राज बब्बर भी थे।

केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आर. के. सिंह, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और प्रदेश के बिजली मंत्री श्रीकांत शर्मा भी मौके पर पहुंचे और हालात का जायजा लिया। केंद्रीय मंत्री सिंह ने संवाददाताओं से बातचीत में संयंत्र को जल्दी शुरू किए जाने के सवाल पर कहा कि ऐसा बिल्कुल नहीं है, यह संयंत्र मार्च से पहले तैयार हो गया था। उसके बाद हमने परीक्षण करके इसे शुरू किया। उन्होंने कहा, यह रखरखाव या डिजायन से जुड़ा मामला हो सकता है, इसकी जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि एनटीपीसी ने पहले मृतकों के परिजन को पांच लाख रुपए मुआवजा देने की बात कही थी। लेकिन अब अनुग्रह राशि को बढ़ाकर 20 लाख रुपए कर दिया गया है।

रायबरेली से सांसद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने ऊंचाहार में हुए हादसे पर गहरा दुख जाहिर करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वह पीड़ितों की हरसंभव मदद करें।

कांग्रेस महासचिव गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सोनिया परसों ही अस्पताल से लौटी हैं, अगर वह स्वस्थ होती तो यहां जरुर आतीं। उन्होंने कहा, हम पार्टी की तरफ से इस घटना पर शोक प्रकट करते हैं, उसके साथ ही हमारी मांग रहेगी कि घटना की जांच किसी बाहरी एजेंसी से करायी जानी चाहिए। कहीं ना कहीं कोई बड़ी कमी रही है, चाहे कोयले की बात हो। या चाहे इसे जल्दबाजी में शुरू होने की वजह से हादसा हुआ।

आजाद ने कहा, यहां के लोगों ने अलग-अलग कमियां बताई हैं, जो लोग मारे गए, उनके परिजन ने भी कमियां बताई हैं, कहीं ना कहीं बड़े पैमाने पर गलती हुई है, दोषियों को दण्डित किया जाना चाहिए।

उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने ट्वीट किया है, केंद्र ने हादसे की जांच के लिए समिति गठित की है, एनटीपीसी के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर की अध्यक्षता में समिति 30 दिन में रिपोर्ट देगी। हादसा पीड़ितों के लिए एनटीपीसी, केंद्र और राज्य की ओर से घोषित अनुग्रह राशि के बारे में जानकारी देते हुए शर्मा ने ट्वीट किया है, एनटीपीसी में हुए हादसे में मृतक आश्रितों को 20 लाख रुपए, गंभीर रुप से घायलों को 10 लाख रुपए व घायलों को 2 लाख रुपए अनुग्रह राशि दी जाएगी।

उन्होंने लिखा है, पीएम श्री मोदी ने ऊंचाहार हादसे के मृतक आश्रितों को 2 लाख रुपए, घायलों को 50 हजार रुपए अतिरिक्त अनुग्रह राशि की घोषणा की है, उन्होंने लिखा है, योगी सरकार भी मृतक आश्रितों को 2 लाख रुपए, घायलों को नि:शुल्क इलाज के साथ 50 हजार व 25 हजार रुपए की अतिरिक्त राशि दे रही है।

राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) की टीम अब भी दुर्घटनास्थल पर खोजबीन कर रही है. माना जा रहा है कि मलबे में अभी कुछ और शव दबे हो सकते हैं। रायबरेली के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डी. के. सिंह ने बताया कि हादसे में घायल 63 लोगों का जिला अस्पताल तथा लखनऊ के ट्रामा सेंटर में इलाज किया जा रहा है।

इस बीच, एनटीपीसी के आंचलिक अधिकारी आर. एस. राठी ने बताया कि गम्भीर रुप से घायल लोगों को इलाज के लिए तुरन्त अस्पताल पहुंचाने के लिए दिल्ली स्थित अपोलो तथा मेदांता अस्पतालों से एयर एम्बुलेंस बुला ई गई हैं।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस समय मॉरिशस की तीन दिवसीय यात्रा पर गए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुर्घटना में हुई मौतों पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए की आर्थिक मदद का ऐलान किया है। साथ ही गंभीर रुप से घायलों को 50-50 हजार रुपए तथा अन्य घायलों को 25-25 हजार रुपए आर्थिक मदद की घोषणा भी की है।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top