Top

तीन तलाक बिल से मुस्लिम महिलाएं खुश पर कांग्रेस दुखी क्यों : मुख्तार अब्बास नकवी 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   2 Jan 2018 3:07 PM GMT

तीन तलाक बिल से  मुस्लिम महिलाएं खुश पर कांग्रेस दुखी क्यों  : मुख्तार अब्बास नकवी मुख्तार अब्बास नकवी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली (आईएएनएस)। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि वह (कांग्रेस) तीन तलाक विधेयक पर अपने रुख को लेकर दिग्भ्रमित है और वह जानना चाहते हैं कि पार्टी इतनी दुखी क्यों है, जबकि मुस्लिम महिलाएं खुश हैं।

अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ने कहा, "इन दिनों कई सुधार विधेयक संसद में लाए जा रहे हैं। तीन तलाक विधेयक उनमें से एक है।"

उन्होंने कहा, "कांग्रेस एक कदम आगे बढ़ाती है और फिर 10 कदम पीछे हट जाती है। पार्टी तीन तलाक विधेयक को लेकर दिग्भ्रमित (कन्फ्यूज्ड) है।" नकवी ने कहा, "विधेयक से मुस्लिम महिलाएं खुश हैं, लेकिन मैं नहीं जानता कि कांग्रेस क्यों दुखी है।"

ये भी पढ़ें- ‘तीन तलाक पर कानून बनने के बाद कोई मुस्लिम बच्ची खौफ में नहीं जिएगी’

नकवी की यह टिप्पणी मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक-2017 के राज्यसभा में पेश करने से कुछ पहले आई है, जब सदन की कार्यवाही का संचालन तीन दिन के अवकाश के बाद होने जा रहा है।

ये भी पढ़ें- TripleTalaq : हलाला, तीन तलाक का शर्मसार करने वाला पहलू, जिससे महिलाएं ख़ौफ खाती थीं

इससे पहले दिन में विपक्षी दलों ने विधेयक के संबंध में विचार के लिए बैठकी की। यह विधेयक गुरुवार को लोकसभा में पारित हो चुका है।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

कांग्रेस और अन्य दलों ने लोकसभा में विधेयक को स्थायी समिति के पास भेजे जाने की मांग की थी, लेकिन सरकार ने उनकी मांग को नकार दिया था। विपक्ष द्वारा विधेयक में जो संशोधन सुझाए गए थे, उसे भी खारिज कर दिया गया था।

ये भी पढ़ें- तीन तलाक पर प्रस्तावित कानून से नाराज असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, शरीयत की रक्षा के लिए एकजुट हों मुसलमान

लोकसभा में सरकार के पास स्पष्ट बहुमत है लेकिन राज्यसभा में स्थिति ऐसी नहीं है।

यह भी पढ़ें भगवद गीता को उर्दू नज्म में लिखने वाले मशहूर शायर अनवर जलालपुरी नहीं रहे

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.