प्रसिद्ध वैज्ञानिक यश पाल का निधन  

प्रसिद्ध वैज्ञानिक यश पाल का निधन  प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक प्रोफेसर यश पाल।

नई दिल्ली/नोएडा (आईएएनएस)। प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक प्रोफेसर यश पाल (90 वर्ष) का नोएडा स्थित उनके आवास में निधन हो गया। उनके पारिवारिक सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। यशपाल का निधन सोमवार देर रात हुआ।

उनका जन्म 1926 में झंग (अब पाकिस्तान) में हुआ था और वह कैथल में पले-बढ़े थे, जो अब हरियाणा में है। कॉस्मिक किरणों के अध्ययन में अपने योगदान के लिए मशहूर यशपाल ने 1949 में पंजाब विश्वविद्यालय से भौतिकी में मास्टर्स की हासिल की थी।

उन्होंने 1958 में मासाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से पीएचडी की डिग्री हासिल की थी। विज्ञान और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में अपने योगदान के लिए 1976 में वह पद्म भूषण से नवाजे गए थे।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

लोक प्रशासन, शिक्षा और प्रबंधन में उत्कृष्ट काम के लिए अक्टूबर 2011 में उन्हें लाल बहादुर राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उनके निधन पर शोक जाहिर करते हुए कहा कि कॉस्मिक किरणों के अध्ययन , शिक्षा संस्था निर्माण और उल्लेखनीय प्रशासक के तौर पर उनके विशिष्ट योगदान के लिए उन्हें याद किया जाएगा।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने शिक्षाविद के निधन को एक बडी क्षति बताया। राहुल ने ट्वीट किया, ' 'एक वैज्ञानिक एवं उत्साही शिक्षक, जो सीखने और सिखाने का महत्व समझते थे, प्रोफेसर यश पाल का निधन हमारे लिए एक बड़ी क्षति है। ' '

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री हर्षवर्धन ने ट्वीट किया, ' 'पूर्ण विज्ञान के लिए प्रोफेसर यश पाल आपका शुक्रिया। आपको जाता देखना काफी दुखद है, यह बेहद बडी क्षति है लेकिन आप हमेशा हमारे साथ रहेंगे। ओम शांति। ' '

उनके परिवार ने बताया कि लोधी रोड विद्युत शवदाह गृह में दोपहर तीन बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

Share it
Top