आठ आनलाइन कंपनियों पर बिकेंगे पतंजलि के उत्पाद, विदेशी कंपनी संग गठजोड़ नहीं करेगी पतंजलि : रामदेव 

आठ आनलाइन कंपनियों पर बिकेंगे पतंजलि के उत्पाद,  विदेशी कंपनी संग गठजोड़ नहीं करेगी पतंजलि : रामदेव बाबा रामदेव 

नयी दिल्ली (भाषा)। बाबा रामदेव की अगुवाई वाली एफएमसीजी कंपनी पंतजलि आयुर्वेद ने अपने उत्पादों को घर-घर पहुंचाने के लिए आज अमेजन व फ्लिपकार्ट सहित आठ बड़ी आनलाइन खुदरा कंपनियों से गठजोड़ की घोषणा की है।

रामदेव ने यहां इस भागीदारी की घोषणा की और कहा, इस पहल का उद्देश्य ग्राहकों को पारंपरिक खुदरा व्यवस्था का सुगम व प्रभावी विकल्प उपलब्ध करवाना है। यह एक तरह से पहली व्यवस्था का विस्तार ही है। इस पहल के तहत पतंजलि ने ई-कामर्स कंपनी अमेजन, ग्रोफर्स, शॉपक्लूज, फ्लिपकार्ट, बिगबास्केट, 1एमजी, पेटीएम मॉल व नेटमेड्स शामिल हैं। पतंजलि के विभन्नि उत्पाद अब इन साइटों पर उपलब्ध होंगे। चिकित्सक की सलाह पर उपलब्ध करवाई जाने वाली पतंजलि की दवाएं केवल नेटमेड्स व 1एमजी के जरिएबेची जाएंगी।

इस करार पर टिप्पणी करते हुए 1एमजी के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी प्रशांत टंडन ने कहा, "हमारा उद्देश्य ग्राहकों को स्वस्थ और बेहतर जीवन के लिए बेहतरीन सूचनाएं, उत्पाद और सेवाएं मुहैया कराना है। देश के सबसे बड़े ई-हेल्थकेयर प्लेटफॉर्म होने के नाते हमारा विश्वास है कि पतंजलि के साथ रणनीतिक साझेदारी गुणवत्तापूर्ण आयुर्वेदिक उत्पादों और सही सूचना के प्रति ग्राहकों में जागरूकता पैदा करेगी।"

उन्होंने आगे कहा, "आयुर्वेद की क्षमता को जबरदस्त बढ़ावा देने वाली पतंजलि की बाजार में मजबूत स्थिति से आयुर्वेद लोगों की जीवनशैली और स्वास्थ्य का हिस्सा बन रहा है। पतंजलि परिवार में डिजिटल पार्टनर के रूप में शामिल होकर हमें बेहद खुशी हो रही है और इस क्षेत्र में साथ-साथ आगे बढ़ने की उम्मीद करते हैं।"

शॉपक्लूज के वरिष्ठ उपाध्यक्ष परिचालन विशाल शर्मा ने कहा कि कंपनी सीधे ही उत्पाद लेकर उन्हें ग्राहकों को बेचेगी। पतंजलि व ईकामर्स कंपनियां इन उत्पादों की बिक्री पर कोई छूट नहीं देंगी ताकि खुदरा बिक्री केंद्रों के जरिए उत्पादों की बिक्री से तालमेल रखा जा सके।

रामदेव ने कहा कि विभिन्न सोशल मीडिया मंचों के जरिए लोग पतंजलि के उत्पादों की आनलाइन बिक्री शुरू किए जाने का आग्रह कर रहे थे। इसे ध्यान में रखते हुए ही संस्था ने हरिद्वार से हर द्वार तक आनलाइन उत्पाद उपलब्ध करवाने का फैसला किया है। कंपनी ने हाल ही में अपनी वेबसाइट पतंजलि आयुर्वेद बनाई और दिसंबर महीने में इसके जरिए बिक्री 10 करोड़ रुपए से अधिक रही।

रामदेव ने कहा कि 50,000 करोड़ रुपए मूल्य की उत्पादन क्षमता तैयार करके उनकी कंपनी एफएमसीजी क्षेत्र में सबसे अग्रणी बन गई है। हरिद्वार और तेजपुर (असम) में बड़ी इकाइयों के बाद नोएडा, नागपुर व इंदौर में कंपनी के कारखाने पर तेजी से काम चल रहा है। इसके साथ ही पतंजलि के उत्पादों का नर्यिात भी आंशिक रूप से कार्य शुरू कर दिया गया है।

पतंजलि आयुर्वेद के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी पी. पी. आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि विभिन्न ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ सहयोग की नई व्यवस्था कायम की गई है। कंपनी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचेगी, जिसमें युवा शामिल हैं, जो ऑनलाइन खरीदारी करना पसंद करते हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

रामदेव ने इस अवसर पर कहा, पतंजलि 100 प्रतिशत शुद्धता एवं 100 प्रतिशत परमार्थ के रास्ते पर चल रही है। पतंजलि अपने मुनाफे को लोगों के स्वास्थ्य, शिक्षा, परमार्थ और गांव गरीब की भलाई पर खर्च करेगी। पतंजलि सीमा पर जान गंवाने वाले सैनिक, अर्धसैनिक बलों के जवानों के बच्चों के लिए स्कूल भी तैयार कर रहा है जहां उनके बच्चों को निशुल्क शिक्षा, रहने और खाने-पीने की सुविधा दी जाएगी।

इस भागीदारी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अमेजन इंडिया के उपाध्यक्ष (श्रेणी प्रबंधन) मनीष तिवारी ने कहा, "हम एक शानदार ऑनलाइन शॉपिंग अनुभव के साथ ग्राहकों को अनूठे उत्पाद मुहैया कराने के उद्देश्य से भारत में विकसित ब्रांडों के साथ मिलकर काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।"

ये भी पढ़ें- मेरी हत्या की जा सकती है : प्रवीण तोगड़िया 

फ्लिपकार्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कल्याण कृष्णमूर्ति ने कहा, "अगले 3-4 सालों के लिए हमारे लिए एफएमसीजी और ग्रासरी मुख्य प्राथमिकता के क्षेत्र हैं। 'हरिद्वार से हर द्वार तक' फ्लिपकार्ट के दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व करता है, जो कि शीर्ष गुणवत्ता के उत्पाद ग्राहकों को सर्वोत्तम मूल्य पर उपलब्ध कराना है। इसलिए इस भागीदारी से ग्राहकों को काफी फायदा होगा।"

ये भी पढ़ें- इजरायल की सहायता से भारत में बढ़ेगा शहद और फूलों का उत्पादन

एक सवाल के जवाब में रामदेव ने कहा पतंजलि किसी विदेशी कंपनी के साथ गठजोड़ नहीं करेगी लेकिन विदेशों से नवीन प्रौद्योगिकी और विज्ञान को अपनाने में उसे कोई परहेज नहीं है।

ये भी पढ़ें- अंडर-19 विश्व कप : पापुआ न्यू गिनी को 10 विकेट से हराकर अंतिम आठ में पहुंचा भारत

ये भी पढ़ें- अंडर-19 विश्व कप में भारत ने आस्ट्रेलिया को 100 रनों से हराया

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top