जीएसटी के फायदे शुरू, मारुति के बाद जेएलआर इंडिया ने कारों के दाम सात प्रतिशत घटाए  

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   1 July 2017 3:49 PM GMT

जीएसटी के फायदे शुरू, मारुति के  बाद जेएलआर इंडिया ने कारों के दाम  सात प्रतिशत घटाए   टाटा मोटर्स समूह की कंपनी जगुआर लैंड रोवर।

नई दिल्ली (भाषा)। मारुति सुजुकी के बाद अब टाटा मोटर्स समूह की कंपनी जगुआर लैंड रोवर (जेएलआर) ने भारत में बिक रही अपनी सभी कारों के दामों में कमी की आज घोषणा की। माल एवं सेवा कर से लागत में कमी का फायदा ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए की गई कीमत कटौती औसतन सात प्रतिशत है।

कंपनी ने कहा है कि वह नई माल एवं सेवा कर प्रणाली (जीएसटी) के लिए पूरी तरह तैयार है। देश में कंपनी के सभी पच्चीसो शो-रुम पर ग्राहकों को तत्काल प्रभाव से नई घटी हुई दर पर वाहन दिए जाएंगे।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जेएलआर इंडिया के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक रोहित सूरी ने कहा, 'दिल्ली में शो रुम की कीमतों के आधार पर हमारी सभी कारों पर दाम में कमी औसतन 7 प्रतिशत के आस पास होगी। ' कंपनी भारत में जगुआर ब्रांड के तहत जो वाहन बेचती है उसमें एक्सई के विभिन्न माडलों की कीमतें 34.64 लाख रुपए से शुरू होती हैं। एक्सएफ की कीमतें 44.89 लाख रुपए एफ-पेस की कीमतें 67.37 लाख रुपए और एक्सजे माडल के विभिन्न संस्करण की कीमतें 97.39 लाख रुपए से शुरू होती हैं।

जीएसटी का लाभ देने के लिए मारुति ने वाहनों की कीमतों में तीन प्रतिशत तक कटौती की

इसी तरह लैंड रोवर ब्रांड में डिस्कवरी स्पोर्ट की कीमतें 40.04 लाख रुपए, रैंज रोवर एवाक के दाम 42.37 लाख रुपए , रैंज रोवर स्पोर्ट 89.44 लाख रुपए और रैंज रोवर के विभन्न संस्करणों की कीमतें 1.59 करोड रुपए से शुरू होती हैं।

आज से शुुरू नई कर प्रणाली में 1500 सीसी से उपर की क्षमता के इंजन वाली लक्जरी कारों और एसयूवी वाहनों पर जीएसटी की उच्चतम 28 प्रतिशत की दर के साथ साथ 15 प्रतिशत का उप-कर लागू किया गया है. इस तरह इन वाहनों पर कुल मिला कर कराघात कम हो गया है. पुरारी व्यवस्था में इस वर्ग के वाहनों पर कर 50 प्रतिशत के आस पास था।

सूरी ने कहा कि उनकी कंपनी जीएसटी के लिए 'पूरी तरह तैयार ' है और 'हम 8-9 महीनों से इसकी तैयारी कर थे, उन्होंने कहा कि जीएसटी में कंपनी के पुणे कारखाने से देश के अन्य भागों में कारें कम समय में भेजी जा सकेंगी।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top