मोदी सरकार ने विदेशों में रह रहे सौ से अधिक सिखों को काली सूची से बाहर निकाला : राजनाथ

मोदी सरकार ने विदेशों में रह रहे सौ से अधिक सिखों को काली सूची से बाहर निकाला : राजनाथराजनाथ सिंह।

नई दिल्ली (भाषा)। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज कहा कि राजग सरकार ने सिख समुदाय के ऐसे सौ से अधिक लोगों को काली सूची से बाहर किया है जो दुनिया के दूसरे देशों में रह रहे थे और भारत वापस नहीं आ सकते थे। उन्होंने कहा कि यह प्रक्रिया अभी जारी है।

राजनाथ सिंह ने 1984 के सिख विरोधी दंगों का जिक्र करते हुए यहां राष्ट्रीय सिख संगत के एक समारोह में कहा, ''लोगों के दिलों में 84 का जख्म बहुत गहरा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जब नई सरकार बनी तो हम जानते थे कि जिन लोगों को इंसाफ मिलना चाहिए था, नहीं मिल पाया। (मेरे) गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी संभालने के बाद एक एसआईटी बनाई गयी। जिसने दंगों के मामले में जांच शुरु की। कुछ मामलों में आरोपपत्र दाखिल किये गये और कुछ मामलों में अब भी जांच चल रही है।''

ये भी पढ़ें - ओडिशा में 6,800 रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से सूखा ग्रस्त इलाकों के किसानों को मिलेगी सब्सिडी

गृह मंत्री ने कहा, ''सरकार बनने के बाद इस बात की भी जानकारी प्राप्त हुई कि बड़ी संख्या में सिख समुदाय के लोग दुनिया के दूसरे देशों में हैं और उनका नाम काली सूची में है। वो भारत वापस नहीं आ सकते थे। हमने इन लोगों को काली सूची से बाहर निकालने की प्रक्रिया शुरु की और सौ से अधिक सिखों को काली सूची से बाहर किया जा चुका है। आगे भी यह सिलसिला निरंतर जारी है।''

सरकार ने पिछले साल अगस्त में भी कहा था कि 225 सिखों के नाम काली सूची से हटा दिये गये हैं जिनके नाम विध्वंसक या भारत-विरोधी गतिविधियों में कथित तौर पर शामिल रहने के मामले में सरकार की काली सूची में थे। काली सूची में जिन एनआरआई सिखों के नाम हैं, 80 और 90 के दशक में चले खालिस्तान आंदोलन से कथित तौर पर उनके तार जुड़े होने के मामले में उनके भारत आने पर प्रतिबंध है।

ये भी पढ़ें - तीन पीढ़ी से शासन करने वाली कांग्रेस को अब रोजगार की चिंता : धर्मेन्द्र प्रधान

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े संगठन राष्ट्रीय सिख संगत द्वारा सिखों के दसवें गुरु गोविंद सिंह के 350वें प्रकाश वर्ष पर यहां आयोजित समारोह में राजनाथ ने कहा कि भारत की संस्कृति की रक्षा करने वाले महापुरुषों में गुरु गोविंद सिंह सबसे अग्रणी रहे। उन्होंने खालसा पंथ की स्थापना की थी जो आज भी भारतीय संस्कृति का रक्षा कवच है।

उन्होंने कहा, ''हम इस पंथ के महत्व को अच्छी तरह समझते हैं, इसलिए मेरा व्यक्तिगत मत है कि यदि हम हिंदुओं और सिखों, दोनों को भाई-भाई कहते हैं तो वो तो सही है लेकिन यदि किसी को मैं अपना बडा भाई मानता हूं तो सिख समुदाय के लोगों को मानता हूं।'' गृह मंत्री ने कहा कि गुरु गोविंद सिंह के 350 वें प्रकाश वर्ष पर हमें उनकी परंपराओं को आगे बढ़ाने का संकल्प लेना चाहिए।

ये भी पढ़ें - राष्ट्रपति कोविंद ने टीपू सुलतान का नाम लिया और भाजपा-कांग्रेस में छिड़ा सियासी वाकयुद्ध

उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति कितने प्राचीन समय से शाश्वत है, इसका वर्णन चीनी क्रांति के दौरान पीकिंग विश्वविद्यालय के कुलपति हूं सी की लिखी एक किताब में मिलता है जिसमें उन्होंने लिखा कि दो हजार साल से अधिक समय पहले से भारत ने सांस्कृतिक दृष्टि से चीन को नियंत्रित कर रखा है और उस पर प्रभुत्व जमा रखा है और इस काम के लिए भारत ने एक भी सैनिक नहीं भेजा।

ये भी पढ़ें - टीपू सुल्तान की मौत ऐतिहासिक थी : कोविंद

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top