राजस्‍थान: अब किसानों को नहीं लगाने पड़ेंगे बैंकों के चक्‍कर, घर बैठे मिलेगा लोन

राजस्‍थान: अब किसानों को नहीं लगाने पड़ेंगे बैंकों के चक्‍कर, घर बैठे मिलेगा लोन

लखनऊ। हर जिले में राजस्थान सरकार किसान केंद्र खोलेगी जहां पर जाकर किसान लोन के लिए ऑनलाइन अप्लाई करेंगे। एक बार लोन अप्रूव हो जाएगा तो किसान के खाते में वह पैसे आ जाएंगे। उस पैसे को किसान अपने एटीएम कार्ड के जरिए जरूरत के अनुसार निकालते रहेंगे। इस योजना के तहत एटीएम ग्रामीण स्तर पर शुरू किया जाएगा। ऐसा करने वाला पहला राज्‍य राजस्‍थान बन गया है। यह जानकारी राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जयपुर में ऑनलाइन कृषि ऋण सेवा का उद्घाटन करते हुए बताया।

सीएम अशोक गहलोत ने एटीएम सेवा का भी अनावरण किया। उन्‍होंने बताया कि पहले चरण में करीब 400 एटीएम ग्रामीण इलाकों मे लगाए जाएंगे। इस मौके पर जयपुर के बिरला ऑडिटोरियम में आए हुए किसानों को ऑनलाइन लोन की सुविधा के बारे में बताया गया और कैसे एटीएम का इस्तेमाल करना है यह भी समझाया गया।

इसे भी पढ़ें-इसे भी पढ़ें-आम बजट 2019-20: यहां पढ़ें किस विभाग को मिला कितना पैसा

सहकारिता विभाग की तरफ से आयोजित इस समारोह में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अलग-अलग जिला मुख्यालयों से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने किसानों से सीधी बात की और उनका फीडबैक लिया। गौरतलब है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि किसानों का ऋण माफ करने के साथ ही उन्हें नया कर्ज स्वीकृत करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। सरकार इस वर्ष करीब 16 हजार करोड़ रुपए के फसली ऋण वितरित करेगी। इसके अलावा खरीफ और रबी में खाद-बीज में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

गहलोत ने यहां सहकारी क्षेत्र में आनलाइन फसली ऋण वितरण व सहकारी एटीएम के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सरकार का पूरा प्रयास रहेगा कि किसानों को किसी तरह की तकलीफ न हो। उन्होंने कहा कि हमारे पिछले कार्यकाल में हमने पहली बार किसानों को बिना ब्याज फसली ऋण देने की शुरूआत की थी। अब हमने ऐसी व्यवस्था सुनश्चिति की है जिसमें ऋण वितरण और कर्ज माफी में किसी तरह की गड़बड़ी नहीं हो और पूरी पारदर्शिता के साथ किसानों को इसका लाभ मिले।

इसे भी पढ़ें-दो से अधिक बच्चे वालों को मताधिकार से वंचित किया जाए: गिरिराज सिंह

उन्होंने प्रदेश में सहकारी क्षेत्र में आनलाइन ऋण वितरण की शुरूआत को एक ऐतिहासिक कदम बताते हुए कहा कि इससे ऋण वितरण की प्रक्रिया आसान हो जाएगी और इसमें पारदर्शिता भी आएगी। अब किसान एटीएम या पोस मशीन के माध्यम से ऋण राशि की निकासी भी कर सकेंगे।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top