हमारी सांस्कृतिक विरासत एक है, रवीन्द्रनाथ टैगोर उसके अंतरराष्ट्रीय राजदूत: राष्ट्रपति 

हमारी सांस्कृतिक विरासत एक है, रवीन्द्रनाथ टैगोर उसके अंतरराष्ट्रीय राजदूत: राष्ट्रपति राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी।

रांची (भाषा)। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज यहां कहा कि समस्त भारत की सांस्कृतिक विरासत एक जैसी है और रवीन्द्र नाथ टैगोर समस्त विश्व में इसके अघोषित संवाहक राजदूत रहे हैं।

राष्ट्रपति ने आज यहां जयपाल सिंह स्टेडियम परिसर में बनने जा रहे रवीन्द्र भवन एवं कडरु क्षेत्र में बनने जा रहे हज हाउस का ऑनलाइन शिलान्यास करने के बाद अपने संबोधन में यह बात कही। उन्होंने कहा कि बिहार, झारखंड, उड़ीसा अलग राज्य बनने के पहले 1935 तक बंगाल प्रेसिडेन्सी के अंग थे और यह पूरा क्षेत्र एक ही सांस्कृतिक विरासत का क्षेत्र है। उन्होंने कहा कि यहां रवीन्द्र भवन के निर्माण का शुभारंभ कर मुख्यमंत्री रघुवर दास एवं उनकी सरकार ने बहुत ही सराहनीय कार्य किया है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

प्रणब ने कहा कि 1961 में रवीन्द्र नाथ टैगोर के जन्म शताब्दी समारोहों के दौरान पूरे देश के सभी राज्यों में रवीन्द्र भवनों का निर्माण किया गया था लेकिन झारखंड राज्य बाद में बना, लिहाजा यहां भी उस भवन की कमी दूर करने का काम राज्य सरकार करने जा रही है, जिसकी वह प्रशंसा करते हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top