पाकिस्तान ने बालाकोट में किया संघर्ष विराम का उल्लंघन 

पाकिस्तान ने बालाकोट में किया संघर्ष विराम का उल्लंघन प्रतीकात्मक फोटो।

जम्मू (भाषा)। पाकिस्तान रेंजर्स ने आज जम्मू-कश्मीर के बालाकोट सेक्टर में नियंत्रण रेखा की अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी कर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया।

रक्षा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘पाकिस्तानी सेना ने बालाकोट सेक्टर में नियंत्रण रेखा की अग्रिम चौकियों पर आधी रात को 12 बजकर 50 मिनट पर गोलीबारी करना शुरु की थी।'' प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर कल रात अग्रिम चौकियों एवं असैन्य इलाकों में भी गोलीबारी की। यह गोलीबारी देर रात डेढ़ बजे तक लगातार चली।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उन्होंने बताया कि पाकिस्तान सेना ने नौशेरा सेक्टर में कल शाम साढे छह बजे अंधाधुंध छोटे हथियारों, स्वचालित हथियारों से गोलीबारी की और 82 एमएम और 120 एमएम के मोर्टार दागे। यह हमला कल रात नौ बजे तक जारी रहा। पाकिस्तान रेंजर्स ने 15 और 16 मई की दरमियानी रात को भी राजौरी जिले के तीन क्षेत्रों में नियंत्रण रेखा पर अग्रिम चौकियों एवं असैन्य इलाकों में गोले दागे थे।

नौशेरा सेक्टर में 13 मई को नियंत्रण रेखा के पास असैन्य इलाके में मोर्टार दागे जाने की घटना में दो लोगों की मौत हो गई थी और तीन अन्य लोग घायल हो गए थे। सीमा-पार से हो रही गोलीबारी एवं गोलेबारी में करबी 10,000 लोग प्रभावित हुए हैं। पाकिस्तान की ओर से की गई गोलीबारी में नियंत्रण रेखा पर प्रभावित कस्बों से करीब 1700 लोगों को राहत शिविरों में स्थानांतरित किया गया है।

डीसी ने बताया कि सीमा पार से लगातार हो रही गोलाबारी में 2,694 परिवारों के करीब 10,042 लोग प्रभावित हुए हैं। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन ने मृतकों के निकटतम रिश्तेदार को तत्काल एक-एक लाख रुपए राहत राशि देने और घायलों को भी आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। चौधरी ने बताया कि प्रशासन और अधिक राहत शिविर बनाने को तैयार है और इसके लिए 25 इमारतों को भी निर्धारित किया गया है। उन्होंने बताया कि शिक्षा प्रभावित न हो यह सुनिश्चित करने के लिए स्कूल की कक्षाएं भी इस सप्ताह से बहाल की जाएगीं।

उन्होंने कहा, ‘‘घायलों को इलाज के लिए ले जाने के लिए छह एंबुलेंसों को लगाया गया है। नौशेरा और अग्रिम इलाके में मोबाइल मेडिकल यूनिट भी तैनात की गई है।'' गृह मंत्रालय के एक आरटीआई को दिए जवाब के अनुसार पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा वर्ष 2015 में 405 की तुलना में वर्ष 2016 में 449 संघर्ष विराम का उल्लंघन किया और दो साल में 23 सुरक्षा कर्मियों की मौत हुई है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top