सरकार किसानों की आय दोगुनी करेगी : राष्ट्रपति

सरकार किसानों की आय दोगुनी करेगी : राष्ट्रपतिसाभार: इंटरनेट।

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को बजट सत्र के पहले दिन संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुए कहा, "मेरी सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए प्रतिबद्ध है।" उन्होंने कहा कि देश भर में किसानों का बाजार ऑनलाइन जुड़ रहा है और अब तक 36,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के कृषि उत्पाद 'ईनैम' (डिजिटल राष्ट्रीय कृषि बाजार) के जरिए बिक चुके हैं।

लगभग 30 करोड़ टन फलों-सब्जियों का उत्पादन

राष्ट्रपति ने कहा, "यह किसानों की कड़ी मेहनत का परिणाम है कि इस बार अनाज का 27.5 करोड़ टन से ज्यादा और फलों व सब्जियों का 30 करोड़ टन से ज्यादा रिकॉर्ड उत्पादन हुआ है।" किसानों की मुश्किलों का समाधान करना और उनके जीवन स्तर को बेहतर बनाना सरकार की उच्च प्राथमिकता है। विभिन्न योजनाओं से वह न केवल किसानों की चिंता कम कर रही है बल्कि खेती पर होने वाले उनके खर्च को भी घटा रही हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की नीतियों और किसानों की कड़ी मेहनत का ही परिणाम है कि देश में 27.5 करोड़ टन से ज्यादा खाद्यान्न और लगभग 30 करोड़ टन फलों-सब्जियों का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ है।

ये भी पढ़ें- आर्थिक सर्वेक्षण : किसानों के लिए 2017-18 में 20,339 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई

दाल के उत्पादन में 38 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी

किसानों की आय वर्ष 2022 तक दोगुना करने की सरकार की प्रतिबद्ध दोहराते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि किसानों को उनकी पैदावार की उचित कीमत मिले इसके लिए देश की कृषि मंडियों को ऑनलाइन जोड़ने का कार्य चल रहा है। ई नाम योजना के तहत अब तक 36,000 करोड़ रुपए से अधिक की कृषि वस्तुओं का व्यापार किया जा चुका है। दशकों से लंबित 99 सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करने का काम भी प्रगति पर है। दालों के लिए बनाई गई नई नीति की वजह से पिछले वर्ष की तुलना में दाल के उत्पादन में 38 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी हुई है जो एक रिकॉर्ड है।

यूरिया के नीम लेपित होने से इसकी कालाबाजारी रुकी

उन्होंने कहा कि जहां एक ओर देश में यूरिया का उत्पादन बढ़ा है वहीं शत प्रतिशत यूरिया के नीम लेपित होने से इसकी कालाबाजारी भी रुकी है। गोरखपुर, बरौनी, सिंदरी, तालचर और रामागुंडम उर्वरक कारखानों को फिर से शुरू कराने की दिशा में तेजी से काम किया जा रहा है। राष्ट्रपति ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना’ के तहत किसानों को सस्ती और सरल बीमा सेवा उपलब्ध करायी जा रही हैं। वर्ष 2017 के दौरान, रबी और खरीफ फसलों के दौरान पांच करोड़ 71 लाख किसानों को इस योजना के तहत सुरक्षा कवच प्रदान किया गया था।

ये भी पढ़ें- इस बार के बजट में किसानों को प्राथमिकता नहीं दी तो संकट में आ जाएगा कृषि क्षेत्र

राष्ट्रपति के किसानों की आय दोगुनी करने के बयान पर गोरखपुर के रमवापुर गाँव के किसान अजय प्रताप(32वर्ष) का कहना है,“ किसानों की आय बढ़ाने की बात हर कोई करता है, लेकिन इन बातों का कोई फायदा नहीं होने वाला है।” वहीं कुशीनगर के अहिरौली बाजार निवासी कैलाश सिंह(50वर्ष) का कहना है, “ इस सरकार से हमें पूरी उम्मीद है। किसानों की आय बहुत कम है। किसानों के सामने काफी संकट है।”

आधुनिक तकनीक से बढ़ेगी आय

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किसानों के आधुनिक तकनीक अपनाने पर जोर देते हुए कहा कि उनकी सरकार ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का फैसला किया है, जब भारत अपनी आजादी के 75 वर्ष पूरे करेगा। प्रधानमंत्री ने किसानों से कृषि के आधुनिक तरीकों जैसे कि ड्रिप सिंचाई अपनाने के लिए कहा और उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का फैसला लिया है। उन्होंने कहा है, केन्द्र ने तकनीक में सुधार करके, दूध उत्पादन बढ़ाकर, सौर उर्जा का इस्तेमाल करके, शहद का उत्पादन करके 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का निर्णय लिया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Tags:    budget 2018-19 
Share it
Top