देश

RJD की रैली में तेजस्‍वी यादव बोले- नीतीश कुमार अच्छे ‘चाचा’ नहीं हैं

पटना। गांधी मैदान में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की 'देश बचाओ, भाजपा भगाओ' रैली में विपक्ष की एकता देखने को मिल रही है। लालू यादव और उनके परिवार के अलावा शरद यादव, अखिलेश यादव, ममता बनर्जी, गुलाम नबी आजाद, सीपीआई नेता डी राजा, कांग्रेस के हनुमंत राव, डीएमके के एलांगोवन, एनसीपी के तारिक अनवर मंच पर मौजूद हैं। लालू ने मंच पर ही शरद यादव को गले लगाया।

पीएम मोदी-नीतीश पर साधा निशाना

तेजस्वी यादव ने पीएम मोदी और नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश 28 साल के नौजवान से डर गए। नीतीश धोखेबाज हैं, ऐसा कोई सगा नहीं, जिसको उन्होंने ने ठगा नहीं। उन्होंने जॉर्ज फर्नांडिस, दिग्विजय सिंह, शरद यादव, महागठबंधन के लोगों को धोखा देने का काम किया।

तेजस्वी ने कहा कि महागठबंधन टूटा नहीं है। असली जदयू हमारे अभिभावक शरद यादव का है। उनको डराया गया कि आप रैली में नहीं जाएंगे लेकिन वो हमारे साथ खड़े हैं। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश जी मेरे चाचा है और रहेंगे लेकिन वो अच्छे चाचा नहीं है। तेजस्वी ने कहा कि लोग आरक्षण खत्म करना चाहते हैं, मैं पीएम से अपील करता हूं कि 2 करोड़ लोगों को रोजगार दें और हर किसी के खाते में 15 लाख जमा करें।

ममता बनर्जी।

समर्थकों के लिए पूरा इंतजाम

राज्य भर से आरजेडी के तमाम समर्थक पटना आना शुरू हो गए हैं। राज्य के 20 जिलों में बाढ़ आई हुई है, इसके बावजूद भी कोशिश की जा रही है कि वहां के समर्थक भी रैली में पहुंचे। राज्य के चारों तरफ से बसों, ट्रेनों, निजी वाहनों के अलावा नाव से भी समर्थकों को पटना लाया जा रहा है। आरजेडी ने अपने समर्थकों के रहने, खाने-पीने की पूरी व्यवस्था कर रखी है। पार्टी के 80 विधायक, सात पार्षद और तीन सांसद ये पूरा जिम्मा उटाए हुए हैं। कार्यकर्त्ताओं के रहने के लिए बड़े-बड़े शामियाने लगाए गए हैं।

लालू-तेजस्वी की होर्डिंग्स में रंगा शहर

रैली को लेकर पूरा पटना पार्टी के हरे रंग के बैनर और पोस्टर से पटा हुआ है। शहर में कई जगह तोरणद्वार लगाए गए हैं। लालू और तेजस्वी के बड़े-बड़े होर्डिंग्स से पूरा रंगा नजर आ रहा है।

रैली में लालू प्रसाद यादव के साथ बैठे अखिलेश यादव।

गुलाम नबी ने पढ़ा सोनिया का बयान

वहीं कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का बयान पढ़ा। जिसमें नीतीश कुमार को आड़े हाथों लिया गया. बयान में कहा गया कि बिहार में जेडीयू, आरजेडी और कांग्रेस ने साथ-साथ चलने की शपथ ली थी, लेकिन नीतीश कुमार ने प्रदेश के लोगों को धोखा दिया। सोनिया ने कहा कि नीतीश ने जो किया वो ना सिर्फ बिहार के जनादेश का अपमान है बल्कि देश का अपमान है।

राहुल गांधी ने अपना संदेश भेजा।