योगी सरकार में हुए एनकाउंटर से खुश हैं कैराना के लोग, कहा- हम सुरक्ष‍ित महसूस कर रहे

कैराना। उत्‍तर प्रदेश में योगी सरकार आने के बाद से ही यूपी पुलिस ने बदमाशों के एनकाउंटर शुरू कर दिए थे। कभी कैराना में बदमाशों का खूब आतंक हुआ करता था। 2014 में कैराना में रंगदारी और हत्‍या की वजह से व्‍यापारियों में भय व्‍याप्‍त था। योगी सरकार आने के बाद हुए एनकाउंटर में कई बदमाश मार दिए गए तो वहीं कैराना के लोकल गैंग को भी खत्‍म कर दिया गया। इसकी वजह से कैराना के लोग काफी खुश नजर आते हैं।

कैराना के व्‍यापारी वरुण कुमार बताते हैं, ''16 अगस्‍त 2014 को मेरे भइया दुकान पर बैठे थे। तभी चार नकाबपोश लोग आए और फायरिंग शुरू कर दी। मेरे भइया की मौके पर ही मौत हो गई। उनकी मौत के बाद हमें जानकारी हुई कि उनसे रंगदारी मांगी गई थी। मेरे भइया की मौत के आठ दिन बाद ही लोहे के दो व्‍यापारी की हत्‍या कर दी गई। इससे कैराना में बदमाशों का आतंक फैल गया और व्‍यापारियों में डर।''

अपनी किराने की दुकान में बैठे वरुण कुमार। इसी जगह बदमाशों ने उनके भाई की हत्‍या कर दी थी।अपनी किराने की दुकान में बैठे वरुण कुमार। इसी जगह बदमाशों ने उनके भाई की हत्‍या कर दी थी।

वरुण बताते हैं, ''जब से योगी सरकार आई है और उन्‍होंने एनकाउंटर खोल दिए हैं तो यहां पर बहुत फर्क पड़ा है। बीजेपी सरकार में एनकाउंटर खुलने के बाद हम सुरक्ष‍ित महसूस कर रहे हैं, डर कम हुआ है। पुलिस प्रशासन अच्‍छा काम कर रहा है। पहले शाम के 6 बजे के बाद दुकान नहीं खुलती थी अब रात में 9-10 बजे तक दुकान खुलती है। उस वक्‍त तो डर इतना था कि लोग डर के मारे थाने नहीं जाते थे कि पता चलने पर बदमाश मार न दे।''

योगी सरकार ने इस साल गणतंत्र दिवस पर अपनी उपलब्धियों की लिस्ट जारी की थी, इसमें एनकाउंटर भी शामिल किए गए थे। सरकार ने बताया था कि मार्च 2017 से जुलाई 2018 के बीच पुलिस और बदमाशों के बीच 3026 मुठभेड़ हुई। इनमें कुल 69 अपराधियों को मार गिराया गया, जबकि 838 अपराधी घायल हुए। इसमें 7043 अपराधी गिरफ्तार किए गए हैं। सरकार ने यह भी बताया कि इस दौरान 11981 अपराधियों ने अपनी जमानत रद्द कराई और अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। सरकारी की उपलब्धियों में एसटीएफ के एनकाउंटर भी शामिल किए गए थे। एसटीएफ ने एनकाउंटर में 9 अपराधियों को मार गिराया गया था।

कैराना का मुख्‍य बाजार।कैराना का मुख्‍य बाजार।

कैराना के ही रहने वाले कुलदीप सिंघल कहते हैं, ''वही पुलिस तब थी, वहीं पुलिस अब है। लेकिन एक मजबूत प्रशासन की वजह से सब बदल गया। योगी सरकार की वजह से गुंडों में डर है। गुण्‍डों का और पुलिस का जो मेल था अब वो नहीं है। इसलिए पुलिस स्‍वतंत्र है।'' कैराना के ही पास के गांव झाड़खेडी के रहने वाले विकास कुमार सैनी बताते हैं, ''जब से सरकार बदली है सुख शांति है। हमारा रोड ऐसा था कि शाम के सात बजे के बाद कोई आ जा नहीं सकता था, क्‍योंकि बदमाश लूट लेते थे।'' विकास याद करते हुए कहते हैं, ''हमारे चाचा के यहां का ही एक लड़का था, जिसे इसी सड़क पर चाकू मार दिया था, वो किसी तरह अपनी जान बचाकर आया था। ऐसा हाल था तब। लेकिन सरकार बदलने और एनकाउंटर खुलने के बाद से बदमाश गायब हो गए।''

Share it
Top