मध्यप्रदेश हिंसा: सोशल मीडिया में कोई किसान तो कोई पुलिस को बता रहा जिम्मेदार, देखिए दिल दहला देने वाले वीडियो

मध्यप्रदेश हिंसा: सोशल मीडिया में कोई किसान तो कोई पुलिस को बता रहा जिम्मेदार, देखिए दिल दहला देने वाले वीडियोमध्यप्रदेश के मंदसौर में हिंसा।

लखनऊ। मध्यप्रदेश के मंदसौर में किसानों द्वारा किया जा रहा आंदोलन थमने के बजाए और भी उग्र होता जा रहा है। आज किसानों द्वारा किये जा रहे आंदोलन के पूरे आठ दिन हो गए हैं। इस आंदोलन को लेकर सोशल मीडिया पर लोग अलग-अलग विचार दे रहे हैं, कोई कह रहा है कि आगजनी और हिंसा किसानों ने की तो कोई कह रहा है कि पुलिस ने खुद तोड़फोड़ की हैं।

बता दें कि राज्य में फसल के उचित दाम और कर्ज माफी को लेकर किसान एक जून से हड़ताल पर हैं। 10 जून तक चलने वाली हड़ताल के छठे दिन मंगलवार को किसान पिपलिया मंडी में सड़क पर उतरकर आए थे। इसी दौरान पुलिस से उनकी झड़प हो गई और पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने किसानों पर गोलीबारी शुरू कर दी। गोलीबारी में पांच किसानों की मौत हो गई और सात अन्य घायल हो गए। किसानों की मौत के बाद आंदोलन अधिक उग्र हो उठा। प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को 30 से ज्यादा वाहन फूंक डाले। प्रशासन ने हिंसा के मद्देनजर मंदसौर व पिपलिया मंडी में कर्फ्यू लगा दिया।

ये भी पढ़ें : मध्यप्रदेश : और उग्र हुआ किसान आंदोलन, पढ़िए पूरा अपडेट

इस बीच फेसबुक पर सुभाष जांगू बिश्नोई नाम के फेसबुक एकाउंट से दो वीडियो शेयर किये गये जिसमें बस को तोड़ते और आगजनी करते हुए दिखाया जा रहा है और इस वीडियो के साथ में लिखा गया है कि किसानों द्वारा किया गया ऐसा व्यवहार सही नहीं है, यह आंदोलन की छवि खराब करने की कोशिश है किसानों से विनती है कि इस तरह का कोई भी कार्य ना करें।

वहीं फेसबुक पर ही सत्य पटेल नाम के फेसबुक एकाउंट से एक वीडियो शेयर किया गया है, जिसमें दिखाया जा रहा है कि पुलिस तोड़फोड़ कर रही है और इसके साथ में लिखा गया है कि पहले खुद तोड़ फोड़ करो फिर वाहन तोड़ फोड़ के मुकदमे किसान के खिलाफ दर्ज करो। यही शालीनता है।

ये भी पढ़ें- किसान आंदोलन : मध्यप्रदेश बंद, छह की मौत, गुस्साए लोगों ने कलेक्टर को खदेड़ा, फाड़े कपड़े

इसके साथ ही आज एक और वीडियो शेयर किया गया है जिसमें फोर्स को निर्देश दिया जा रहा है कि आगर कोई भी आदमी बदमाशी करता है उसको जिताना पीट सकते हैं उतना पीटिये, कमजोरी दिखाने की जरीरत नहीं है।

ये भी पढ़ें : महाराष्ट्र : गुस्साए किसानों ने सैकड़ों लीटर दूध सड़क पर बहाया, शुरू की अनिश्चितकालीन हड़ताल

विक्रांत भूरिया नाम के फेसबुक अकाउंट से एक वीडियो शेयर किया गया है जिसमें पीएससी के जवान तोड़फोड़ कर रहे हैं। इसके साथ में लिखा गया है कि पुलिस #असामाजिक तत्वों को खदेड़ते हुए!

आंदोलन कर रहे किसानों से मिलने के लिए निकले राहुल गांधी

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज मंदसौर के लिए निकल चुके हैं, राहुल आंदोलन कर रहे किसानों से बातचीत करेंगे। हालांकि बीजेपी ने राहुल को वहां न जाने की नसीहत दी है। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने दिल्ली में कहा कि राहुल गांधी को समझना चाहिये कि उनके मंदसौर जाने से तनाव बढ़ेगा और इसलिए उन्हें इज़ाज़त नहीं दी गई है। तोमर ने ये भी दावा किया कि असामाजिक तत्व भी लोगों को भड़का रहे हैं।

राज्य में बढ़ती हिंसा और तनाव के लिए कांग्रेस ज़िम्मेदारः शिवराज सिंह चौहान

मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य में बढ़ती हिंसा और तनाव के लिए कांग्रेस को ज़िम्मेदार ठहराया है। बीजेपी का आरोप है कि कांग्रेस राजनीतिक वजहों से किसानों को भड़का रही है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस ने आंदोलन में हिंसा भड़काने का सुनियोजित प्रयास किया था, लेकिन कांग्रेस नेता कमल नाथ ने पलटवार करते हुए कहा कि जब भी बीजेपी किसी मोर्चे पर विफल होती है, तो वो उसके लिए कांग्रेस को ही ज़िम्मेवार ठहरा देती है। उन्होंने कहा कि देश में हज़ारों किसान आत्महत्या कर रहे हैं और सरकार की नीतियों की वजह से पूरे देश में उनकी बदहाली बढ़ती जा रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों के साथ की बैठक

बुधवार को मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के दौरान हुई पुलिस फायरिंग और किसानों की मांगों के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों के साथ बैठक की और हालात की समीक्षा की। उधर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बुधवार को ट्वीट कर कहा, 'मैं किसानों से अपील करता हूं कि शांति बनाए रखें। मैं हमेशा आप लोगों से बातचीत के लिए उपलब्ध हूं। कृपया अफ़वाहों पर ध्यान न दें।'

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top