अब तेलंगाना में जब-जब ट्रैफिक नियम टूटेगा हरियाली बढ़ेगी

तेलंगाना के जोगुलंबा गडवाल और वानपर्थी जिलों में पुलिस ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों से सजा के तौर पर वृक्षारोपण करवा रही है।

अब तेलंगाना में जब-जब ट्रैफिक नियम टूटेगा हरियाली बढ़ेगी

तेलंगाना सरकार ने राज्य के 33 फीसदी इलाके में हरियाली लाने के लिए एक अभियान चलाया है जिसे अनोखा रूप दिया है जोगुलंबा गडवाल और वानपर्थी के पुलिस विभाग ने। पुलिस ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों से सजा के तौर पर वृक्षारोपण करवा रही है। तेलंगाना सरकार के इस अभियान का नाम है 'तेलंगाना कु हरिथा हारम'।

सरकार के इस अभियान में समाज के तमाम वर्गों को शामिल कर इसे सामाजिक वानिकी का रूप दिया है जोगुलंबा गडवाल जिले की पुलिस प्रमुख रीमा राजेश्वरी ने। रीमा की ही पहल पर पुलिस विभाग ने ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों को वृक्षारोपण अभियान से जोड़ा है। इसके पीछे यह विचार है कि अगर अपराध होने और उन्हें समाज में फैलने से रोकना है तो अपराध रोकने और अपराधियों को सुधारने के तरीकों को भी बेहतर बनाना होगा।


एसपी रीमा ने जनता से अपील की है कि ट्रैफिक का उल्लंघन करने वाले नाबालिगों के फोटो खींचकर उन्हें पुलिस हेल्पलाइन नंबर पर भेजें। इसके बाद इन बच्चों को उनके माता-पिता से बुलाकर उनकी काउंसलिंग की जाएगी। बार-बार नियम तोड़ने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। पुलिस न केवल ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों बल्कि पूर्व अपराधियों और हिस्ट्री शीटर लोगों को भी इस कार्यक्रम से जोड़ेगी। इस नए कदम के बारे में जिला पुलिस का मानना है कि इससे अपराधियों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने में मदद मिलेगी। इन दोनों जिलों की पुलिस की योजना पुलिस थानों, पुलिस के रिहाइशी इलाकों, ट्रेनिंग फैसिलिटी, सरकारी इमारतों वगैरह में 2 लाख पौधे लगाने की है।

रीमा अपने क्षेत्र में अपराध रोकने और सोशल मीडिया पर फैलने वाली फेक न्यूज के खिलाफ पुलिस और जनता की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए मशहूर हैं। रीमा हर पुलिस यूनिट को नागरिकों को अपने साथ जोड़ने और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ काम करने की जिम्मेदारी सौंपती हैं। इस तरह से स्थानीय पुलिस ने बाल विवाह, बाल श्रम, फेक न्यूज, शराब, काला जादू जैसी समस्याओं के खिलाफ अभियान चलाए हैं।

Share it
Share it
Share it
Top