जानिए कैसे प्लास्टिक ज़िंदगी में घोल रही ज़हर

Shrinkhala PandeyShrinkhala Pandey   23 Jun 2018 4:56 AM GMT

जानिए कैसे प्लास्टिक ज़िंदगी में घोल रही ज़हरप्लास्टिक में रखा खाना।

लखनऊ। रंजना (34) अपने सात वर्षीय बेटे, आलोक के साथ खरीददारी करने आई हैं। दुकानदार जब आलोक को स्टील के टिफिन बॉक्स दिखना शुरु करता है तो उसे कोई भी पंसद नहीं आता, जैसे ही वह प्लास्टिक के रंग-बिरंगें डिब्बे निकालता है आलोक को तुरंत ही अपने लिए टिफिन बॉक्स पंसद कर लेता है जिसकी कीमत स्टील के बॉक्स से तीन गुनी कम है।

उसी दुकान की दूसरी ग्राहक सीमा खरीददारी करते हुए मोल तोल करती हैं और एक बाल्टी, मग और टब 400 रुपये में लेती हैं। सीमा कहती हैं, ''मेरी गृहस्थी में ज्यादातर सामान प्लास्टिक के ही होते जा रहें हैं क्योंकि ये सस्ते, टिकाऊ होने के साथ देखने में भी सुंदर दिखते हैं।" वो आगे कहती हैं, ''जो सामान मैनें 400 रुपये में खरीदे हैं अगर वही स्टील या एल्युमीनियम का लेते तो 1000 रुपये तक आता।"

अधिकतर हम कुछ भी खाने पीने की चीजें अगर किसी छोटी दुकान से पैक कराते हैं तो दुकानदार हमें प्लास्टिक थैले में ही देता है ये हमारी सेहत के लिए नुकसानदायक है। आम जन के जीवन में प्लास्टिक का प्रयोग ऐसे ही लगातार बढ़ने से ज़िंदगी में ज़हर घुल रहा है।

बढ़ रहा सस्ते प्लास्टिक का बाजार

लखनऊ के प्लास्टिक के थोक बाजार अहैय्यागंज के डीलर दानिश कहते हैं, ''पहले से प्लास्टिक का चलन हर जगह ही बढ़ा है चाहे वह शहर हो या गाँव।" वो आगे कहते हैं कि हमारे यहां हर साल ही प्लास्टिक विक्रेताओं की संख्या और उनकी मांग बढ़ती है। गाँवों में ज्यादातर सस्ते और लोकल प्लास्टिक के सामान जाते हैं। जैसे एक पानी की बोतल 50 -60 रुपये में मिलती है जबकि स्टील की बोतलें 600 से शुरु होती है। दोनों के मूल्य में काफी अंतर है, इसलिए गाँव वाले अपने बजट के अनुसार ज्यादातर प्लास्टिक ही इस्तेमाल करते हैं। केवल शहरों में ब्रांडेड प्लास्टिक जैसे- सैलो, मिल्टन, बिक ते हैं।

सस्ते प्लास्टिक से हो सकती हैं बीमारियां

प्लास्टिक के बढ़ते चलन से भले ही लोग इसका इस्तेमाल धड़ल्ले से कर रहें हैं लेकिन सस्ते प्लास्टिक के नुकसान के बारे में लखनऊ के डॉक्टर विवेक अग्रवाल जनरल फीजिशियन बताते हैं, ''प्लास्टिक के डिब्बों में खाने पीने का सामान रखने से पहले उसे ठंडा रखना चाहिए वरना प्लास्टिक के रासायनिक पदार्थ खाने में मिल जाते हैं और शरीर के अंदर पहुंच कर कैंसर, आंत संबधी कई बीमारी पैदा कर सकते हैं। इन बर्तनों की सफाई का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए इन्हें हमेशा गर्म पानी में धोकर ही इस्तेमाल करना चाहिए वरना ये नुकसान पहुंचा सकते हैं।"

चाय की पैंकिग भी प्लास्टिक के थैलों में।

ये भी पढ़ें:विशेषज्ञों ने प्लास्टिक को प्रतिबंधित करने के बजाय पुनर्चक्रण पर दिया जोर

कितना खतरनाक हो सकता है प्लास्टिक

सस्ते और प्लास्टिक के ज्यादा प्रयोग से पर्यावरण और मानव जीवन पर क्या असर पड़ सकता है, इस विषय पर भीमराव अम्बेडकर के प्रोफेसर और वैज्ञानिक डॉ नवीन अरोड़ा कहते हैं, प्लास्टिक एक पालीमर है, जो कि कई पदार्थों के मिश्रण से बना होता है। प्लास्टिक बनाने में नायलॉन, फिनोलिक, पौलीसट्राइन, पौलीथाईलीन, पौलीविनायल, क्लोराइड, यूरिया फार्मेलीडहाइड व अन्य पदार्थों का इस्तेमाल किया जाता है। उदाहरण के लिए कुछ तरह के जूते चप्पल पहनने से हमारे पैरों में एलर्जी और त्वचा में खुजली और जलन होती है। ऐसा इसलिए होता है कि उन जूते चप्पलों में इस्तेमाल होने वाला प्लास्टिक घटिया किस्म का होता है। इतने सारे रसायनों से बने पदार्थ में जब हम खाने पीने क़ी चीजें रखेंगे तो जाहिर है कि इन रसायनों के कुछ पदार्थ खाने पीने की चीजों में मिल जाएंगे। प्लास्टिक का पुन:चक्रीकरण नहीं हो पाता। कूड़े में पड़े प्लास्टिक को जानवर खाकर मर जाते हैं।

प्लास्टिक की बोतल-टिफिन से कैंसर का भी खतरा

रिसर्च से ये बात सामने आई है कि प्लास्टिक के बोतल और कंटेनर के इस्तेमाल से कैंसर हो सकता है। प्लास्टिक के बर्तन में खाना गर्म करना और कार में रखे बोतल का पानी कैंसर की वजह हो सकते हैं। कार में रखी प्लास्टिक की बोतल जब धूप या ज्यादा तापमान की वजह से गर्म होती है तो प्लास्टिक में मौजूद नुकसानदेह केमिकल डाइऑक्सिन का रिसाव शुरू हो जाता है। ये डाईऑक्सिन पानी में घुलकर हमारे शरीर में पहुंचता है। इसकी वजह से महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

लंबे समय तक प्लास्टिक के डिब्बे में बंद खाना नुकसानदायक हो सकता है।

गर्भवती महिलाओं के लिए भी खतरनाक

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के कम्युनिटी मेडिसिन विभाग के डॉ. वीरसिंह ने एक प्रेस कांफ्रेन्स में बताया कि सिर्फ पन्नी ही नहीं, बल्कि रिसाइकिल किए गए रंगीन या सफेद प्लास्टिक के जार, कप या इस तरह के किसी भी उत्पाद में खाद्य पदार्थ या पेय पदार्थ का सेवन स्वास्थ्य के लिए घातक सिद्ध हो सकता है। इनमें मौजूद बिसफिनोल ए नामक जहरीला पदार्थ बच्चों और गर्भवती महिलाओं के लिए खतरनाक है। प्लास्टिक के घातक तत्वों के खाद्य पदार्थों एवं पेय पदार्थों के माध्यम से शरीर में पहुंचने से मस्तिष्क का विकास बाधित होता है। इसका बच्चों की स्मरण शक्ति पर सर्वाधिक विपरीत असर पड़ता है।

प्लास्टिक बैन के आदेश

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने वक्त-वक्त पर प्लास्टिक और पॉलिथीन के इस्तेमाल के बारे में कई आदेश जारी किए हैं। इनमें एक आदेश पिछले साल दिसंबर का है। ट्रिब्यूनल ने दिल्ली में प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए नॉन डिस्पोजेबल प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगा दिया था। एनजीटी ने 50 माइक्रोन से पतली प्लास्टिक पर बैन कर दिया है। 50 माइक्रोन से नीचे की प्लास्टिक की न तो मैन्युफैक्चरिंग और न ही सेल की जा सकती है।

इस बैन में प्लास्टिक के वे डिस्पोजेबल कप और गिलास भी आते हैं जिन पर पतली पॉलिथीन की लेयर होती है या पतली प्लास्टिक से बने होते हैं। 50 माइक्रोन से ज्यादा के प्लास्टिक को री-साइकल किया जा सकता है, जबकि 50 माइक्रोन से पतले प्लास्टिक के साथ ऐसा नही किया जा सकता। इस वजह से पर्यावरण को काफी नुकसान होता है।

कैसे पहचानें बैन पॉलिथीन को

मार्केट में जितनी भी थैली लूज मिलती है, वह सारी ही एनजीटी की बैन की सीमा में आती है। अगर थैली उंगली के जोर लगाने पर आराम से फट जाए तो समझ जाना चाहिए कि यह 50 माइक्रोन से कम पतली है। बैन की सीमा के बाहर सिर्फ वही पॉलिथीन हैं, जिनका इस्तेमाल बड़ी कंपनियां अपने प्रॉडक्ट्स को पैक करने के लिए करती हैं।

ये भी पढ़ें:सरकारी कार्यालयों में प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाएगा गोवा : पर्रिकर

ये भी पढ़ें:प्लास्टिक के कचरे से मुक्ति दिलाएगा यह बैक्टीरिया

ये भी पढ़ें:प्लास्टिक में रखे खाद्य पदार्थ को खाने से पुरुषों में गंभीर रोगों का खतरा

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top