मन की बात में बोले पीएम: बेटियां देश का नाम रौशन कर रही हैं

मन की बात में बोले पीएम: बेटियां देश का नाम रौशन कर रही हैंरेडियो पर मन की बात करते प्रधानमंत्री मोदी।

नई दिल्ली। देश के प्रधानमंत्री ने आज लोगों से मन की बात की। मोदी ने 34 वीं बार रेडियो पर लोगों को संबोधित किया। बात के दौरान उन्होंने कहा कि कई लोगों को शिकायत थी कि 15 अगस्त को दिये जाने वाले भाषण काफी लम्बे होते हैं इसलिये इस बार मैं अपना भाषण 40 से 50 मिनट में समाप्त करने का प्रयास करूंगा।

प्रधानमंत्री ने कार्यक्रम की शुरूआत पर्यावरण के मुद्दे से की। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि पानी में विनाश की ताकत है। पर्यावरण में आ रहे बदलाव से बहुत कुछ बदल रहा है। प्राकृतिक आपदा का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार सब देख रही है मदद का भरसक प्रयास कर रही है। लोगसेवाभाव से आगे आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज हमें अपने देश के लिये मरने की जरूरत नहीं है बल्कि जीवित रहकर इसे प्रगति की नई ऊंचाइयों पर ले जाने की जरूरत है।

ये भी पढ़ें- नेशनल बुक ट्रस्ट जल्द ही गाँवों में पहुंचाएगा किताबें, करेगा पंचायत पुस्तक मेले की शुरुआत

जीएसटी को लेकर प्रधानमंत्री ने कहा लोगों में उत्साह है कई लोगों में जिज्ञासा है। उन्होंने बताया कि गुड़गांव की नीतू ने कहा कि जीएसटी के लागू होने का असर बताएं। पीएम ने कहा कि जीएसटी को लागू हुए एक महीना हो रहा है। इससे फायदा हुआ है चीजें सस्ती हुई हैं। पीएम ने कहा कि उत्तर पूर्व से लोगों ने कहा कि अब काम आसान हो गया है। ट्रांसपोर्ट पर इसका अच्छा असर पड़ा है सामान की आवाजाह बढ़ी है। उन्होंने बताया कि जीएसटी लागू करने में सभी राज्यों की भागीदारी है और सभी की जिम्मेदारी है। सभी राज्यों ने सर्वसम्मति से लागू किया है।

पीएम ने अगस्त को क्रांति का महीना बताते हुए कहा कि इसी महीने भारत में आजादी की क्रांति हुई थी। उन्होंने कहा कि 1857 को क्रांति शुरू हुई, समय बदला, पीढ़ियां बदलीं पर आजादी का आंदोलन चलता रहा जो 1947 तक चला। पीएम ने कहा कि हम इस साल भारत छोड़ो आंदोलन की 75 वर्षगांठ मना रहे हैं। उन्होंने महात्मा गांधी और 'भारत छोड़ो' का नारा देने वाले डॉक्टर युसुफ मेहर अली को याद किया।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारी बेटियां देश का नाम रोशन कर रही है। देशवासियों को उन पर गर्व है। उन्होंने महिला क्रिकेट विश्वकप का जिक्र कर कहा कि उनसे मिलकर अच्छा लगा। वे वर्ल्ड कप हार का बोझ महसूस कर रही थीं। मैंने उनसे कहा कि लोग मर्यादा से ज्यादा अपना गुस्सा फोड़ते हैं। उन्होंने कहा कि पहली बार ऐसा हुआ कि देशवासियों ने हार का बोझ अपने ऊपर लिया।

ये भी पढ़ें- मैक्सिको से आया मक्का, चीन से आया चावल, जानें कहां से आया कौन सा खाना

'मन की बात' कार्यक्रम का प्रसारण 11 बजे सुबह आकाशवाणी के सभी नेटवर्क और दूरदर्शन पर प्रसारित होता है। इसके अलावा सूचना और प्रसारण मंत्रालय तथा डीडी न्‍यूज के यू-ट्यूब चैनलों पर भी यह कार्यक्रम उपलब्‍ध रहता है।

रात 8 बजे दोबार सुन सकेंगें

रात 8 बजे इस कार्यक्रम को क्षेत्रीय भाषाओं में दोबारा सुना जा सकता है. मन की बात का यह 34वां संस्करण होगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top