‘नर्मदे सेवा यात्रा’ समारोह में पीएम मोदी ने देश की सूखी नदियों पर जताई चिंता 

‘नर्मदे सेवा यात्रा’ समारोह में पीएम मोदी ने देश की सूखी नदियों पर जताई चिंता अमरकंटक में आयोजित ‘नर्मदे सेवा यात्रा’ समारोह में पीएम मोदी व सीएम शिवराज सिंह।

अमरकंटक (मप्र, भाषा)। देश में सूख रही नदियों पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि नक्शे में देश की कई नदियां है, लेकिन इनमें पानी नहीं है। यहां 148 दिनों तक चली ‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा' के समापन समारोह को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘हिन्दुस्तान में कई नदियां हैं, नक्शे पर उन नदियों के निशान है, लेकिन पानी का नामोनिशान नहीं है। कई नदियां इतिहास के गर्त में शामिल हो चुकी हैं।'' उन्होंने कहा, ‘‘देश के केरल में एक नदी है, जिसका नाम ‘भारत पूजा' है। केरल की यह नदी बचेगी कि नहीं बचेगी, यह चिंता का विषय हैं।''

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री एवं प्रदेश की जनता को नर्मदा नदी के संरक्षण के लिए समय रहते सजग होने की तारीफ करते हुए मोदी ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा नर्मदा संरक्षण के लिए आज जारी रोडमैप (नर्मदा प्रवाह पुस्तक) भविष्य के विजन के लिए ‘परफेक्ट डॉक्युमेंट' है। उन्होंने मध्यप्रदेश सरकार से कहा कि वह इसे देश के अन्य राज्यों को भी साझा करें, ताकि वे भी अपने-अपने राज्यों में नदियों के संरक्षण के लिए ऐसी ही पहल शुरू कर सकें। पीएम मोदी ने कहा, ‘‘यह डॉक्युमेंट मुझे पहले ही भेज दिया गया था और मैंने इसे पूरी तरह से पढ़ा है। इसमें वह सभी ब्योरे दिए गए हैं, जिसे इस मिशन के तहत किया जाना है।

ये भी पढ़ें: नर्मदा के लिए ‘गांधी मॉडल’ की जरूरत : राजगोपाल

इस यात्रा को शुरू करने के लिए प्रदेश की जनता एवं विशेष रूप से चौहान को बधाई देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘इस अभियान में 25 लाख से अधिक लोग शामिल हुए हैं। नर्मदा संरक्षण का अभियान चलाकर मध्यप्रदेश ने नदी, मानवता एवं पर्यावरण की रक्षा के लिए बहुत बड़ा काम किया है। जनभागिता के बगैर यह अभियान संभव नहीं है।'' मोदी ने कहा, ‘‘गुजरात के लोग पानी की एक-एक बूंद के महत्व को जानते हैं। मैं गुजरात, राजस्थान एवं महाराष्ट्र के नागरिकों की ओर से इस अभियान को चलाने के लिए मुख्यमंत्री चौहान एवं मध्यप्रदेश की जनता का अभिनंदन करता हूं।''

ये भी पढ़ें: ‘नमामि देवी नर्मदे-सेवा यात्रा’ की तर्ज पर ‘नमामि गंगे’ परियोजना चलाएंगे : योगी

इस मौके पर उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि वर्ष 2022 में देश की आजादी के 75 साल पूरे होने को है, इसके लिए आज से ही वे नये भारत का निर्माण करने के लिए काम में जुट जायें। नर्मदा के दोनों तटों पर फलदार पेड़ लगाये जाने की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘जो अनाज बोते हैं, वे केवल एक साल के बारे में सोचते हैं, जबकि जो आगे की सोचते हैं, वे फलदार वृक्ष लगाते हैं।''

पीएम मोदी ने हाल ही में मध्यप्रदेश के दो शहरों इंदौर एवं भोपाल को देश का क्रमश: पहला एवं दूसरा स्वच्छ शहर मिलने का जिक्र करते हुए कहा कि यह मध्यप्रदेश के लिए गर्व का विषय है। देश के 100 सबसे अधिक स्वच्छ शहरों की रेटिंग में प्रदेश के 22 शहरों ने स्थान पाया है। इससे पहले मोदी यहां नर्मदा मंदिर गये और मंदिर के दर्शन कर पूजा अर्चना की, जहां से मां नर्मदा का उद्गम हुआ।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top