आतंकवाद से लड़ने में यूरोप अग्रणी भूमिका निभाए : मोदी 

आतंकवाद से लड़ने में यूरोप अग्रणी भूमिका निभाए : मोदी प्रधानमंत्री का एयरपोर्ट पर स्वागत किया गया।

बर्लिन (भाषा)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आतंकवाद को आज सबसे गंभीर चुनौती बताया, जिसका मानवता सामना कर रही है। उन्होंने इस बुराई से निपटने के लिए यूरोप से संयुक्त राष्ट्र की अगुवाई में एक प्रभावी वैश्विक भूमिका विकसित करने में अग्रणी भूमिका निभाने का अनुरोध किया। मोदी चार देशों - जर्मनी, स्पेन, रुस और फ्रांस- की छह दिन की यात्रा के प्रथम पड़ाव पर यहां पहुंचे। उन्होंने जर्मन अखबार ‘हांदेलस्ब्लात' को दिए एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘आतंकवाद से यूरोप बुरी तरह प्रभावित हुआ है।''

ये भी पढ़ें- 79 साल बाद जागा द्रविड़नाडु का जिन्न, पढ़िए क्यों भारत के ये 4 राज्य कर रहे अलग देश की मांग

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे मुताबिक, आतंकवाद सबसे गंभीर चुनौती है, जिसका मानवता सामना कर रही है। यूरोप को इस बुराई से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र की अगुवाई में एक प्रभावी वैश्विक प्रतिक्रिया विकसित करने में अवश्य ही एक अग्रणी भूमिका निभानी चाहिए। मोदी की यह टिप्पणी काफी मायने रखती है क्योंकि यह जर्मनी, फ्रांस, ब्रिटेन और स्वीडन जैसे यूरोपीय देशों में हाल ही में हुए आतंकी हमलों के मद्देनजर आई है। ब्रिटेन के मैनचेस्टर में एक कंसर्ट में हुए ताजा आतंकी हमले ने यूरोप को दहला कर रख दिया है, जहां एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को विस्फोट कर उडा दिया।

ये भी पढ़ें- गज़ब : यूपी के एक गांव में एेतिहासिक शादी, बेटा-बेटी, बहू और नाती-पोते भी झूमे

इस हमले में 22 लोग मारे गए थे। देश के प्रमुख बिजनेस अखबार से बात करते हुए मोदी ने संरक्षणवाद (अर्थव्यवस्था में) की दिशा में बढ़ाए जाने वाले कदमों के खिलाफ भी चेतावनी दी और यूरोप से यह सुनिश्चित करने की अपील की कि वैश्विक अर्थव्यवस्था अंतरराष्ट्रीय व्यापार के लिए खुली रहे और निवेश तथा लोगों का मुक्त प्रवाह हो। मोदी ने कहा, ‘‘संरक्षणवादियों और दुनिया में प्रवासी विरोधी भावनाओं के बारे में हमारी चिंताएं हैं। हमें उम्मीद है कि उनका समाधान कर लिया जाएगा।''

ये भी पढ़ें- यूपी : 70 लाख नौकरी देने का था वादा, मगर 70 दिन में 25 हजार भर्ती पर लगाई रोक

उन्होंने कहा, ‘‘हम एक ऐसी दुनिया में रहते हैं जो आपस में जुड़ी हुई है। सीमाओं के आर-पार वस्तुओं, पूंजी और लोगों का आवागमन हमारी सामूहिक प्रगति के लिए तथा वैश्विकरण के फायदों को साकार करने के लिए जरूरी है।'' मोदी ने जर्मनी के लिए भारत की अहमियत पर जोर देते हुए कहा कि यह ‘सबसे खुली' और ‘दुनिया में सबसे तेजी से बढती अर्थव्यवस्थाओं ' में शामिल है।

Share it
Top