प. बंगाल में PM ने साधा ममता पर निशाना, बोले- चिटफंड के घोटालेबाजों के सबूत खोजो

प. बंगाल में PM ने साधा ममता पर निशाना, बोले- चिटफंड के घोटालेबाजों के सबूत खोजो

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को पश्चिम बंगाल के बुनियादपुर में जनसभा की। इस दौरान उन्‍होंने पश्‍चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा, ''जब हमारे वीर सपूतों ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकवादियों को साफ किया, तब दीदी उन लोगों में से थीं, जिन्होंने इसका सबूत मांगा।''

पीएम ने कहा, ''पूरा देश कह रहा है कि इस बार पश्चिम बंगाल में कुछ बड़ा हो रहा है। जो हो रहा है वो आपके इस प्यार और स्नेह से साफ़ दिखाई दे रहा है। इस बार पश्चिम बंगाल के लोगों ने स्पीड ब्रेकर दीदी को समझाने की ठान ली है कि जनता के साथ गुंडागर्दी करने का, उनके पैसे लूटने का और उनका विकास रोकने का नतीजा क्या होता है।''

पीएम मोदी ने कहा, ''बंगाल में पहले और दूसरे चरण में मतदान की जो रिपोर्ट आई हैं, उसने स्पीड ब्रेकर दीदी की नींद उड़ गई है। इसी बौखलाहट में किस तरह के जघन्य अपराध हो रहे हैं, वो भी देश देख रहा है। पुरुलिया में हमारे एक और कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई है।''

पीएम मोदी ने कहा, ''पहले गरीबों के पसीने की कमाई नारदा, सारदा और रोज़वैली ने लूट ली और फिर दीदी ने घोटालेबाज़ों को ही सांसद और मंत्री बना दिया। इतना ही नहीं भ्रष्टाचारियों के लिए तो वो धरने तक पर बैठ गईं। दीदी अपनी पार्टी में जगाई-मथाई की भर्ती कर रही हैं, लेकिन जिन युवाओं ने एग्जाम पास किया है, उनको नौकरी नहीं देतीं। इनके पास गुंडों को देने के लिए पैसा है, लेकिन कर्मचारियों को DA देने के लिए पैसे नहीं हैं।''

नरेंद्र मोदी ने कहा, ''जब हमारे वीर सपूतों ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकवादियों को साफ किया, तब दीदी उन लोगों में से थीं, जिन्होंने इसका सबूत मांगा। अरे दीदी, सबूत ही खोजने हैं तो चिटफंड के घोटालेबाज़ों के सबूत खोजो। मां भारती में आस्था रखने वाले जो लोग बंटवारे के कारण दूसरे देशों में चले गए थे, आज जब वहां उनके साथ उनकी आस्था की वजह से अत्याचार हो रहा है तो वो कहां जाएंगे? उन्हें नर्क की जिंदगी से निकालना हर हिंदुस्तानी और हर सरकार का कर्तव्य है।''

पीएम मोदी ने कहा, ''हमारी सरकार ने पश्चिम बंगाल के 70 लाख से अधिक किसानों के खाते में सीधी मदद देने की योजना बनाई है। लेकिन यहां की सरकार ने लाभार्थियों की लिस्ट ही नहीं भेजी। क्योंकि इसमें टोलाबाजी का कोई स्कोप नहीं है, ये सीधा आपके बैंक खाते में जमा होने हैं।''

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Share it
Top