Top

फंस गए हरीश रावत, 300 करोड़ के घोटाले की फाइलें पुलिस को मिली  

फंस गए हरीश रावत, 300 करोड़ के घोटाले की फाइलें पुलिस को मिली   हरीश रावत। फोटो : साभार इंटरनेट

रुद्रपुर (भाषा)। उत्तराखंड के उधमसिंह नगर में सामने आये कथित 300 करोड़ रुपये के एनएच-74 घोटाले में गायब हो चुकी फाइल दोबारा पुलिस के हाथ लग गयी है। इस मामले में पुलिस ने पूर्व उपजिलाधिकारी के एक पूर्व रीडर को गिरफ्तार किया है, जिसके पास से घोटाले से संबंधित 201 फाइलें मिली। उधमसिंह नगर जिले की जसपुर पुलिस ने पूर्व उप जिलाधिकारी हिमालय सिंह मर्तोलिया के पूर्व रीडर विकास कुमार को गिरफ्तार करके घोटाले से संबंधित ये फाइलें बरामद की हैं।

ये भी पढ़े - उत्तराखंड में जीएसआई ने खोजा सोना

सूत्रों के अनुसार इन दिनों उत्तराखंड की सियासत में सबसे बड़ा मुद्दा बनकर छाये हुए एनएच-74 घोटाले से संबंधित इन फाइलों में कृषि भूमि को पिछली तारीखों में अकृषि दर्शाकर करोड़ों रुपये मुआवजे के तौर पर बांटे जाने का रिकार्ड दर्ज है।

एनएच-74। फोटो : साभार इंटरनेट

विकास कुमार के घर से घोटाले से संबंधित इन फाइलों के अलावा 750 ग्राम सोने के आभूषण, 1100 ग्राम चांदी, तीन बैंक पासबुक, दो क्रेडिट कार्ड, साढ़े सात लाख रुपये की भूमि का इकरारनामा, 51. 50 बीघा जमीन और सात आवासीय प्लाटों के दस्तावेज भी बरामद हुए हैं। ये दस्तावेज विकास की पत्नी और उसके अन्य रिश्तेदारों के नाम हैं।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उधमसिंह नगर जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सदानंद दाते ने बताया कि बरामद कागजात करोड़ों रुपये की संपत्ति के हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस ने इसे आय से अधिक संपत्ति मानते हुए इसकी सूचना आयकर विभाग को भी दे दी है।

आपको बता दें कि कुमांउ आयुक्त के पद पर रहते हुए इस एनएच-घोटाले को सामने लाने वाले डी सैंथिल पांडियन के दो दिन पहले हुए तबादले को मुद्दा बनाकर कांग्रेस ने शुक्रवार को धरना भी दिया था।

ये भी पढ़े - उत्तराखंड में एक अप्रैल से बिजली महंगी

गौरतलब है कि हरीश रावत के नेतृत्व वाली प्रदेश की पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में एनएच-74 के चौड़ीकरण के लिये अधिग्रहित भूमि के एवज में बांटी गयी मुआवजा राशि में करीब 300 करोड का घोटाला सामने आया है। पांडियन की रिपोर्ट का संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कई उपजिलाधिकारी स्तर के अधिकारियों को गिरफ्तार करते हुए इस घोटाले की सीबीआई जांच की सिफारिश की थी।

हालांकि, अब तक जांच शुरू न हो पाने और इसी बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी द्वारा मुख्यमंत्री रावत को जांच के निर्णय पर पुनर्विचार के सुझाव संबंधी पत्र के खुलासे के बाद कांग्रेस भाजपा सरकार पर हमलावर हो गयी है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.